नारी ही है नारी की शक्ति - चित्रा सरवारा

नारी ही है नारी की शक्ति - चित्रा सरवारा

एस पी भाटिया/विशेष संवाददाता,

अम्बाला - आज हाउसिंग बॉर्ड कॉलोनी अम्बाला छावनी में नारी शक्ति ग्रुप की और से वार्ड नंबर 18 में एक आजोजन किया गया I जिसकी अध्यक्षता हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी निवासी जोगिन्दर कौर ने की जिसमे मुख्यातिथि के तौर पर चित्रा सरवारा ने शिरकत की I आंचल ब्यूटी पार्लर की मुखिया मिसेस आंचल ने वहाँ सभी महिलाओ को सुन्दर दिखने के गुण भी दिए उन्होंने कहा की सुंदरता का दूसरा नाम ही स्त्री है। जब कभी भी सुंदरता की बात आती हैं तो हमेशा उसका वर्णन नारी के रूप में ही होता हैं। जिस तरह हम प्रकर्ति के सुंदरता का वर्णन किये बगैर नहीं रह सकते ठीक उसी तरह नारी की सुंदरता को भी नकारा नहीं जा सकता। प्रेम, धैर्य, त्याग, सर्मपण और लज्जा का दूसरा नाम ही नारी हैं, नारी कभी अपनी कोमलता के कारण तो कभी अपने शक्तिस्वरूपा के रूप में पहचान कराती हैं।

नारी शक्ति ग्रुप की संचालक जोगिन्दर कौर ने कहा की नारी खूबसूरती में लिपटा लिबास नहीं बल्कि मन की सुंदरता का नाम है यह हमेशा ही हर क्षेत्र में सबसे आगे रही हैं। जिस तरह वह घर में सभी लोगों को लेकर चलती हैं ठीक उसी तरह नारी ने बाहर की दुनिया में भी अपनी एक ख़ास पहचान बनाई हैं। नारी के बगैर पुरुष अधूरा हैं, महिला ने ही पुरुष को जीने का नया ढंग सिखाया हैं। उन्होंने चित्रा सरवारा के सम्बोधन में एक कविता भी पेश की और कहा" मै अबला नादान नहीं हूँ दबी हुई पहचान नहीं हूँ मै स्वाभिमान से जीती हूँ रखती अंदर ख़ुद्दारी हूँ मै आधुनिक नारी हूँ"

महिलाओ को सम्बोधित करते हुए चित्रा ने कहा की आपने अक्सर सुना होगा कि एक सफल व्यक्ति के पीछे एक औरत का हाथ होता हैं। ये सच हैं बगैर नारी पुरुष सच में अधूरा हैं वह घर-परिवार की मैनेजमेंट हो या ऑफिस मैनेजमेंट कहीं भी हर जगह नारी खुद को सफल मानती हैं, यही नहीं बल्कि अपनी जिम्मेदारियों के प्रति ईमानदारी नारी की पहचान है। वह कभी अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हटती हैं वहीं पुरुष के हर सुख दुःख में उसके साथ खड़ी रहती हैं। आज की नारी का सफर चुनौतीभरा जरूर है, पर आज उसमें चुनौतियों से लड़ने का साहस आ गया है। अपने आत्मविश्वास के बल पर आज वह दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बना रही है। आज की नारी आर्थिक व मानसिक रूप से आत्मनिर्भर है। परिवार व अपने करियर दोनों में तालमेल बैठाती नारी का कौशल वाकई काबिले तारीफ है। किसी को शिकायत का मौका न देने वाली नारी आज अपनी काबिलीयत व साहस के बूते पर कामयाबी के मुकाम तक पहुँची हैI चुनौतियों का हँसकर स्वागत करने वाली महिलाएँ आज हर क्षेत्र में अपना लोहा मनवा रही हैं। कल तक भावनात्मक रूप से कमजोर महिलाएँ आज आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन रही हैं तथा अपनी जिंदगी के महत्वपूर्ण फैसले स्वयं कर रही हैं।चित्रा ने कहा की आज आप सब महिलाओ को इतनी बड़ी संख्या में देखकर लगता है की महिलाये अब सच में आर्थिक व मानसिक रूप से हर चुनौती से निपटने के लिए तैयार है चित्रा ने कहा की वह स्वयं इन महिलाओ के हर सुख-दुख में इनके साथ खड़ी मिलेगी और इन्हे कही भी उनकी जरुरत हो चाहे वह सामाजिक,धर्मिक,या राजनितिक क्षेत्र हो वह इनके साथ कंधे से कन्धा मिलकर चलेगी इस अवसर पर मुख्य रूप से नारी शक्ति ग्रुप से जोगिन्दर कौर,पूनम सांगवान,काजल,अमृत कौर,कंचन,रेखा,नीलम,आशु,रितिका,सेबी,कान्ता,स्नेह,ममता,मनीषा,ईशा,हरजीत लवली,ऋचा,रजनी,मनीषा,मिन्नी इत्यादि उपस्थित रहे I

Share it
Top