बंदर ने बचाई शिकारी बाज से गौरेया की जान

बंदर ने बचाई शिकारी बाज से गौरेया की जान

शमशुद्दीन अंसारी

कालागढ़ : जिम कार्बेट के पास गुरुवार को कालागढ़ में एक अद्भुत नजारा देखने को मिला। जिसको देखकर वहां मौजूद लोग चकित रह गए। दर असल जाल के नीचे बहुत सारी नन्ही गौरेयां जमा थी और अपनी मस्ती मे खोई हुई थी। तभी अचानक से उनकी चहचहाहट बदल जाती थी। गौरेया की बदली आवाज को सुनकर वहां मौजूद लोग जाली की ओर देखने लगते हैं। देखते ही देखते गौरेया तेज आवाज के साथ शौर मचाने लगती है। यह चहचहाना इसलिए तेज आवाज मे तब्दील हो गया था कि क्योंकि एक शिकारी पक्षी बाज वहां आ बैठा था।



गौरेया की आवाज को भले ही इंसान न समज पाए हों मगर गौरेया की आवाज सुनकर तभी दो बंदर कहीं से उस जाली के पास आ जाते हैं। बंदरों ने चारो ओर देखा और फिर उस जाली की और चले गये जहां गौरेया बोल रही थी। जाली के उपर बैठे शिकारी की ओर झपट कर बंदरों ने उसको वहां से भगा दिया। जिसके बाद गौरेयाओं ने राहत की सांस ली। हम और आप सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि बंदर कितना नटखट होता है और किताबों मे बंदर की तमाम शरारती कहानियों का जिक्र किया गया है। लेकिन बंदर की इस दिल जीतने वाली हरकत को देखकर सभी हतप्रभ रह गए।

Share it
Top