ठंड में पुलिस ने बनाया बेजुबान के लिए आशियाना

ठंड में पुलिस ने बनाया बेजुबान के लिए आशियाना

शमशुद्दीन अंसारी

कालागढ: पुलिस की छवि को लेकर अक्सर तमाम तरह की बातें सामने आती रहती है। कालागढ पुलिस का यह कार्य आपको जरूर अपनी सोच बदलने पर मजबूर कर सकता है। कालागढ में गश्त के दौरान पुलिस कर्मियों को सड़क किनारे एक बेजुबान मा को अपने नवजात बच्चों के साथ देखा। रात में बच्चे ठंडी से करहा रहा थे। पुलिसकर्मियों से असहाय मा और बच्चों को यूँ ठंडी से सिकुडते हुए देखा नहीं गया। पुलिस कर्मी स्ट्रीट डाग और उसके बच्चों को अपने साथ थाने ले आए। जहां पुलिसकर्मियों ने मिलकर उनके लिए घर बनाया। पुलिस कर्मी मिलकर उनका पालन पोषण कर रहे हैं।
सिपाही बलराम ने बताया कि रात को गश्त के दौरान हमे यह सभी ठंडी से सिकुडते हुए सड़क के किनारे दिखाई दिए थे। हमसे देखा नहीं गया और हम इनको अपने साथ ले आए। तभी से थाने के सभी साथी विकास, धरमेद्र मिलकर इनका ध्यान रखते हैं। समय-समय पर इनको पौष्टिक आहार देते रहते हैं। साथ ही ठंड से बचाने के लिए एक घर भी बनाया गया है। जिसके भीतर पुराल और टाट बिछा रखी है।
गणेश चंद्र सैमवाल ने बताया कि कड़ाके की सर्दी से इसान से लेकर जानवर सभी परेशान हो जाते हैं। इसान ठंडी से बचाव के तरीके खोज लेता है। लेकिन बेजुबान जानवरों के लिए समस्या बड़ जाती है। तब मानव को आगे आकर बेजुबान जानवरों के लिए सहारा बनना चाहिए।
कालागढ थाना अध्यक्ष रियाज अहमद ने कहा कि यह एक नेक कार्य है। मुझको खुशी है हमारे साथी इस तरह के कार्य कर रहे हैं । साथ ही मैं लोगों से अपील करता हूँ कि वो भी आगे बढ़ कर बेजुबान जानवरों की मदद करे।

Share it
Top