रोहतास के दर्जनों गावों के घरों में नहीं जलेंगे दीये!

रोहतास के दर्जनों गावों के घरों में नहीं जलेंगे दीये!

रोहतास: हर तरफ दीपावली की धूम है, लेकिन जिले के दर्जनों गांवों में इसकी कोई सुगबुगाहट नहीं है. गंगौली सहित दर्जनों गांव के लोगों की खुशियां छिन गई है. उनके घरों के चूल्हे नहीं जल रहें है. वहीं, इस दीपावली इनके घरों में दीये भी नहीं जलेंगे और न ही खुशियां दिखेंगी.

पूरा मामला डालमियानगर थाना क्षेत्र के गंगौली गावं का है. दर्जनों गांवों के लोग वर्ष 2012 से पंजाब नेशनल बैंक के सीएसपी संचालक के यहां एक-एक पाई बटोरकर सीएसपी (ग्राहक सेवा केंद्र) में जमा किया पर संचालक गांव के लोगों का 25-30 तीस लाख रुपये लेकर फरार हो गया.

पासबुक अपडेट होने के बाद हुआ खुलासा

इतवारिया देवी, हसीना बीवी, गया साह स्थित सत्तर से अस्सी ग्रामीणों की मेहनत मजदूरी, खेती करने वाले ग्रामिणों ने इन पैसों से कई सपने संजोए हुए थे, लेकिन संचालक ने गरीबों के सपनो को चकनाचूर कर दिया. इसका खुलासा तब हुआ जब ग्राहक पीएनबी में पासबुक अपडेट कराने पहुंचे.

सहायक संचालक हो चुका है गिरफ्तार

पासबुक अपडेट होने के बाद ग्राहकों के होश उड़ गए. यह खबर गंगौली सहित अन्य गांवों में आग की तरह खबर फैल गई. अपने जमा पैसों को लेकर इधर-उधर दौड़ लगाने लगे. बीते रविवार को किसी तरह ग्रामीणों के चंगुल में सीएसपी का सहायक संचालक धर्मेंद्र कुमार आया और लोगों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया.

इस घटना को लेकर लोगों की शिकायत पर डालामियानगर थाने में मामले को दर्ज कर लिया गया. सीएसपी का मुख्य संचालक न्यूडिलिया निवासी बिरजू कुमार पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. यह पूरा मामला दस से बारह गांवों का बताया जाता है. जांच होने पर यह आकंड़ा लाखों से ऊपर तक के राशि का जा सकता है.

मामले को गंभीरता से लिया गया हैः एलडीएम

पुलिस की मानें तो ग्रामीणों ने हस्ताक्षर कर सीएसपी के संचालक व सहायक संचालक पर जालसाजी का आरोप लगाया है. जिसमें सहायक संचालक धर्मेंद्र कुमार को गिरफ्तार किया गया है. मुख्य संचालक बिरजू कुमार की गिरप्तारी के लिए प्रयास जारी है. वहीं, एलडीएम का कहना है कि मामले को गंभीरता से लिया गया है. छह माह पहले ही सीएसपी को बंद कर दिया गया था.

Share it
Top