बिहार: एक साथ 350 पुलिस कांस्टेबल पर दर्ज की गई FIR, लगी 50 से ज्यादा धाराएं

बिहार: एक साथ 350 पुलिस कांस्टेबल पर दर्ज की गई FIR, लगी 50 से ज्यादा धाराएं

पटना: सिविल लाइन में हुई हिंसा के मामले में बड़ी कार्रवाई की जा रही है. महिला कांस्टेबल की मौत के बाद आक्रोशित हुए पुलिस बल की हिंसा को दंगे के श्रेणी में रखा गया है. पटना एसएसपी मनुमहाराज ने बताया कि 350 को एफआईआर में नामजद किया गया है. कार्रवाई होगी.

2 नवंबर को राजधानी की पुलिस लाइन में हुए हंगामे ने पूरे पुलिस महकमे की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर दिये थे. वहीं पुलिस लाइन कार्यालय के अंदर से लेकर बाहर तक हुई हिंसा के दोषियों पर कार्रवाई की जा रही है. इसके मद्देनजर पुलिस लाइन की सुरक्षा को फिर से बढ़ा दिया गया है, ऐसा माना जा रहा कि कार्रवाई के बाद कई पुलिस कर्मियों की नौकरी पर गाज गिरेगी, जिससे एक बार फिर से हंगामा खड़ा हो सकता है.

ट्रेनी पुलिस कर्मी फरार

मामले में दर्ज प्राथमिकी के बाद गिरफ्तारी के डर से कई ट्रेनी कांस्टेबल फरार हो गए हैं. दर्ज चारों प्राथमिकी में घटना की प्रवृत्ति दंगा अंकित की गयी है. पहली प्राथमिकी लाइन डीएसपी मो मसेलउद्दीन के बयान पर दर्ज की गई है. इसमें 147/148/149/342/323/324/307/326/332/333/337/338/353/427/449/450/451/452 3/4 डैमेज पब्लिक प्रॉपर्टी एक्ट की आईपीसी की धाराएं शामिल हैं.

दूसरी एफआईआर में लगे ये केस

इसी मामले में दर्ज दूसरी प्राथमिकी में दोषियों के ऊपर लोनी थानाध्यक्ष मनोज मोहन के बयान के आधार पर आइपीसी की धारा 147/148/149/188/341/323/325/332/333/337/338/353/427/449/450/451/452/461/ 3/4 डैमेज पब्लिक प्रॉपर्टी एक्ट के तहत दर्ज की गयी है.

तीसरी एफआई में 50 नामजद

तीसरी प्राथमिकी पीरबहोर थानाध्यक्ष गुलाम सरवर के बयान के आधार पर आइपीसी की धारा 147/148/149/341/323/307/353/504/ 506 के तहत दर्ज की गयी है. इसमें कांस्टेबल धीरज कुमार, मनोज कुमार, राजेश कुमार महतो, मनीष कुमार व 50 अज्ञात नामजद आरोपित बनाये गये हैं. गुलाम सरवर ने बयान में बताया है कि इन कांस्टेबल ने उन्हें घेर लिया और फिर मारपीट की थी. इसमें उनके सिर में चोट आयी है.

चौथी एफआईआर पर लगी ये धाराए

राहगीर सुनील कुमार के बयान पर दर्ज प्राथमिकी में आइपीसी की धारा 147/148/149/341/427/504 लगायी गयी है. वहीं मामले के बाद से सीसीटीवी फुटेज के आधार पर कार्रवाई की जाएगी. पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अब तक कई पुलिस कर्मचारियों की पहचान कर चुकी है. वहीं मामले में सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है. कई मीडिया कर्मचारियों से भी रिकॉर्डिंग मंगवायी गई है.

175 नामजद किए गए

पुलिस लाइन में हुई हिंसा में 175 कांस्टेबल नामजद किए गए हैं. पुलिस इनके खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी में जुटी है. बिहार पुलिस न्यायालय से वारंट लेकर इनकी गिरफ्तारी करेगी. नामजद पुलिस कर्मियों में 73 महिला ट्रेनी कांस्टेबल शामिल हैं. वहीं सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस लाइन के दो मुख्य गेटों के साथ ही शिवमंदिर की ओर से आने वाले गेट पर जवानों की तैनाती कर दी गयी है.

Share it
Top