68,500 सहायक अध्यापक भर्ती मामले में सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, जांच शुरू

68,500 सहायक अध्यापक भर्ती मामले में सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, जांच शुरू

लखनऊ : प्रदेश की योगी सरकार में हुई सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में गड़बड़ी की जांच सीबीआई ने शुरू कर दी है. हाईकोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की है. दिल्ली सीबीआई मुख्यालय ने मामले की जांच लखनऊ यूनिट में एंटी करप्शन को सौंपी है.

हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ के आदेश के बाद सीबीआई ने बेसिक शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापक के 68,500 पदों पर हुई नियुक्ति परीक्षा में गड़बड़ी की जांच शुरू की है. हाईकोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने मामले में फर्जी दस्तावेजों से धोखाधड़ी के साथ-साथ भ्रष्टाचार निवारण एक्ट में एफआईआर दर्ज की है. दर्ज की गई एफआईआर में सीबीआई ने बेसिक शिक्षा विभाग के अज्ञात अधिकारियों के साथ-साथ परीक्षा कराने वाली संस्था परीक्षा नियामक प्राधिकारी एलेनगंज इलाहाबाद के अधिकारियों को आरोपी बनाया है.

सीबीआई लखनऊ यूनिट इस मामले की जांच करेगी. सीबीआई इंस्पेक्टर आरके तिवारी को इस भर्ती जांच का अधिकारी बनाया गया है. साल की शुरुआत में प्रदेश सरकार ने सहायक पदों के लिए विज्ञापन जारी किया था. परीक्षा कराने वाली संस्था ने अगस्त 2018 में 'आंसर की' जारी की तो अभ्यर्थियों ने परीक्षा में हुई गड़बड़ी को पकड़ा.

मामले ने तूल पकड़ा तो प्रदेश सरकार ने एक उच्च स्तरीय कमेटी गठित की, लेकिन मामले पर हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में गुहार लगाई गई और हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए सीबीआई जांच का आदेश दिया गया. 1 नवंबर 2018 को हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने सहायक शिक्षक भर्ती घोटाले मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

Share it
Top