NZ v IND : न्यूजीलैंड का तीसरा विकेट गिरा, 17 ओवर में स्कोर 182 रन

NZ v IND : न्यूजीलैंड का तीसरा विकेट गिरा, 17 ओवर में स्कोर 182 रन

नई दिल्ली : हेमिल्टन में खेले जा रहे तीसरे और फाइनल मुकाबले में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी न्यूजीलैंड ने समाचार लिखे जाने तक 17 ओवर्स के तीन विकेट खोकर 182 रन बना लिए हैं।कॉलिन डी ग्रैंडहोम (27) और डेरिल मिचेल (7) रन बनाकर क्रीज पर मौजूद हैं।

पहले बल्लेबाजी करने उतरी न्यूजीलैंड की टीम ने धामकेदार शुरुआत की। मेजबान टीम को पहला झटका 80 के कुल स्कोर पर लगा। पारी का आगाज करने आए कॉलिन मुनरो और टीम सीफर्ट ने ताबड़तोड़ रन जुटाए। दोनों शतकीय साझेदारी की ओर बढ़े रहे थे, लेकिन 8वें ओवर की चौथी गेंद पर कुलदीप यादव ने सीफर्ट को स्टंप आउट करा दिया।

विकेट के पीछे धोनी ने जबरदस्त फुर्ती दिखाते हुए सीफर्ट की गिल्लियां बिखेर दीं। उन्होंने 25 गेंदों में 43 रन बनाए। उन्होंने अपनी पारी में 3 चौके और 3 छक्के लगाए। सीफर्ट ने पूरी सीरीज में शानदार प्रदर्शन (पहले मैच में 84 रन, दूसरे मैच में 12 रन) किया है।

इसके पहले भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया। फाइनल मुकाबले के लिए रोहित ने युजवेंद्र चहल की जगह 'चाइनामैन' कुलदीप यादव को पहली बार टी-20 सीरीज में मौका दिया।

दूसरी ओर न्यूजीलैंड ने भी लॉकी फर्ग्यूसन की जगह ब्लेयर टिकनर के रूप में एक बदलाव किया है। मौजूदा सत्र में सफलता के कई झंडे गाड़ने वाली भारतीय क्रिकेट टीम यह टी-20 सीरीज जीतकर विदेशी सरजमीं पर एक और नई इबारत लिखना चाहेगी।

पिछले तीन महीने भारतीय टीम के लिए शानदार रहे हैं। इस दौरान भारत ने पहली बार ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज नाम की। इसके बाद टीम ने ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को उनके घर में हराकर द्विपक्षीय वनडे सीरीज में फतह हासिल की।

भारतीय टीम विदेशी सरजमीं पर मौजूदा सत्र का समापन पहली बार न्यूजीलैंड में द्विपक्षीय टी-20 अंतरराष्ट्रीय सीरीज में जीत के साथ करना चाहेगी। फिलहाल सीरीज 1-1 की बराबरी पर है और ऐसे में रविवार का दिन प्रशंसकों के लिए 'सुपर संडे' होगा।

हैमिल्टन मैदान की पिच से हालांकि भारत को सावधान रहना होगा। इस मैदान पर चौथे वन-डे में ट्रेंट बोल्ट की अगुआई में स्विंग गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन से न्यूजीलैंड ने भारत की पारी को महज 92 रन पर समेट दिया था। रविवार को हालांकि परिस्थितियां अलग तरह की होंगी और टीम के लिए विदेशी सरजमीं पर चुनौतीपूर्ण हालात में एक और सीरीज जीतने से बड़ी प्रेरणा शायद ही कुछ और हो।


Share it
Top