दिल्ली विधानसभा में राजीव गांधी के भारत रत्न को वापस लेने पर घमासान, आप विधायक अलका लांबा बर्खास्त..

दिल्ली विधानसभा में राजीव गांधी के भारत रत्न को वापस लेने पर घमासान, आप विधायक अलका लांबा बर्खास्त..

नई दिल्ली : दिल्ली विधानसभा में राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने के कथित प्रस्ताव पर आम आदमी पार्टी में जमकर विवाद हो गया। इस प्रस्ताव को सोशल मीडिया पर फैलाने वाली अलका लांबा की छुट्टी कर दी गई है। सूत्रों ने बताया कि उनकी प्राथमिक सदस्यता भी रद्द कर दी गई है.

चांदनी चौक से आम आदमी पार्टी विधायक ने कहा, "मेरे वॉक आउट के बाद मुख्यमंत्री ने मुझे मैसेज किया कि मैं अपना इस्तीफा दे दूं." विधायकी छोड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा, "मैंने पार्टी की टिकट पर चुनाव जीता है, पार्टी चाहती है तो मैं इस्तीफा देने को तैयार हूं."

सदन में प्रस्ताव विधायक जरनैल सिंह ने रखा जिसका विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल समेत मौजूद सभी सदस्यों ने खड़े होकर समर्थन किया और प्रस्ताव पारित हो गया। हालांकि इसे लेकर आप विधायक और प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि ये प्रस्ताव का हिस्सा नहीं था, विधायक ने अपनी राइटिंग में लिखा जिसे इस तरह से पास नहीं माना जा सकता। यह व्यक्तिगत तौर पर पेश किया गया प्रस्ताव था, जिसपर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।

उन्होंने कहा है कि विधानसभा में पेश किए गए और सदस्यों को वितरित प्रस्ताव में स्वर्गीय राजीव गांधी के बारे में कुछ नहीं लिखा था। एक कॉपी में विधायक ने इस पर अपने हाथ से कुछ लिखकर दिया था और इस संशोधन को शामिल करने की अपील की थी। किसी भी संशोधन को इस तरह शामिल नहीं किया जाता है। राजीव गांधी के बारे में लिखी गई लाइन मूल प्रस्ताव का हिस्सा नहीं था। पार्टी जरनैल पर कार्रवाई करने जा रही है

आम आदमी पार्टी का यू टर्न :

इस मामले में आप नेता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि राजीव गांधी के भारत रत्न से जुड़ा प्रस्ताव मूल प्रस्ताव का हिस्सा नहीं था. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी से भारत रत्न छीनने वाला हिस्सा सोमनाथ भारती ने अपने हाथ से लिखा था. उन्होंने कहा, "मूल प्रस्ताव में हमने 1984 के नरसंहार के दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने की मांग की थी. राजीव गांधी के भारत रत्न से जुड़ा अमेंडमेंट सोमनाथ भारती ने अपने हाथ से लिखा था. सदन में मूल प्रस्ताव पास हुआ लेकिन भारती का प्रस्ताव पास नहीं किया गया."

हालांकि अलका लांबा ने बाद में इस संबंध में ट्वीट किया है, जिसमें राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने वाला हिस्सा हाथ से लिखा हुआ नहीं बल्कि प्रिंटेड नजर आ रहा है।

आज में प्रस्ताव लाया गया की पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी जी को दिया गया भारत रत्न वापस लिया जाना चाहिये, मुझे मेरे भाषण में इसका समर्थन करने को कहा गया,जो मुझे मंजूर नही था,मैंने सदन से वॉक आउट किया। अब इसकी जो सज़ा मिलेगी,मैं उसके लिये तैयार हूँ।




प्रस्ताव पर कांग्रेस ने आप की निंदा की : कांग्रेस ने इस प्रस्ताव पर आप सरकार की आलोचना की है। कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि राजीव गांधी ने देश के लिए अपना जीवन कुर्बान कर दिया और इस प्रस्ताव से आप का असली चेहरा सामने आया है। लांबा का ऐसा करना सही है।


Share it
Top