हाशिमपुरा कांडः हाईकोर्ट ने पलटा तीस हजारी कोर्ट का फैसला,16 PAC के जवानों को उम्रकैद

हाशिमपुरा कांडः हाईकोर्ट ने पलटा तीस हजारी कोर्ट का फैसला,16 PAC के जवानों को उम्रकैद

मेरठः मेरठ में 31 साल पहले हुए हाशिमपुरा कांड में दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार को फैसला सुनाया है। दिल्ली हाइकोर्ट कोर्ट ने तीस हजारी कोर्ट के फैसले को पलटते हुए हाशिमपुरा कांड के आरोपी 16 पीएसी के जवानों को उम्रकैद की सजा सुनाई है। बता दें कि तीस हजारी कोर्ट ने आरोपी 19 पीएसी के जवानों को बरी करने का फैसला सुनाया था। जिसमें से 3 जवानों की मौत हो चुकी है।


PunjabKesari
जानिए पूरा मामला
दरअसल, 1987 में मेरठ में हुए दंगे के बाद पीएसी के जवानों ने हाशिमपुरा मुहल्ले के 42 मुसलमानों को अपने साथ ले गए। जवानों ने उन्हें जांच अभियान के बाद पकड़ा था। आरोप है कि पीएसी और पुलिस के जवानों ने कथित तौर पर 42 मुसलमानो को घर से उठाया और उन्हें हाथ ऊपर कर चलने को कहा। बाद में इन मुसलमानों को पीएसी की गाड़ी में बिठाकर ले जाया गया।

PunjabKesari
गोलियों से छलनी कर नहर में फेंके शव
जिसके बाद सभी मुसलमानों को गंगनहर के पास खड़ा कर गोलियों से छलनी कर दिया गया और उनके शव नहर में फेंक दिए गए। मृतकों के घरवालों को पुलिस काफी समय तक टरकाती रही। पुलिस की तरफ से जबाव न मिलने के बाद जब मामले ने तूल पकड़ा तो मामला कई अदालतों से होता हुआ अंत में सुप्रीम कोर्ट में जा पहुंचा।

PunjabKesari
तीसहजारी कोर्ट ने PAC के जवानों को किया था बरी
इस मामले में ट्रायल कोर्ट ने आरोपी बनाए गए पीएससी के 19 जवानों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था, जिसे पीड़ित पक्ष ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। हाईकोर्ट ने इस मामले में 6 सितंबर को सभी पक्षों की दलील सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। यह मामला सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में स्थानांतरित किया गया था।

Share it
Top