पत्रकार हत्या केस में गुरमीत राम रहीम समेत 4 दोषी, 17 जनवरी को सजा का ऐलान

पत्रकार हत्या केस में गुरमीत राम रहीम समेत 4 दोषी, 17 जनवरी को सजा का ऐलान

एस पी भाटिया/ विशेष संवाददाता

हरियाणा : पत्रकार हत्या मामले में हरियाणा के पंचकूला स्थित सीबीआई कोर्ट ने कुलदीप सिंह, कृष्ण लाल और निर्मल सिंह को भी दोषी करार दिया है।पत्रकार रामचन्द्र छत्रपति की हत्या की साज़िश रचने का आरोपी राम रहीम सहित 4 दोषी करार। 17 जनवरी को सज़ा सुनाई जाएगी दोषियों को सज़ा।


सीबीआई की विशेष जज ने राम रहीम को दोषी करार दिया, 4 आरोपियों को दोषी करार दिया।

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह पर कुछ ही देर में पंचकूला स्थित केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो ( सीबीआई) की विशेष अदालत ने फैसला सुनाया। जेल में पहले से बंद राम रहीम पर छत्रपति की हत्या की साजिश रचने का आरोप है। फैसले से पहले कोर्ट के बाहर दोनों पक्ष पहुंचे।

पंचकूला कोर्ट के बाहर जुटी पत्रकारों, पुलिस की भीड़

राम रहीम पर पत्रकार की हत्या के मामले में फैसला आने से पहले पंचकूला जिला अदालत के बाहर पत्रकारों का मजमा लगा है। मीडियाकर्मी अपने कैमरों के साथ बाहर जुटे हैं, जबकि सुरक्षा के लिहाज से वहां भारी पुलिस बल भी तैनात है।


यहां ड्रोन से की जा रही निगरानी

पंचकूला के डीसीपी कमलदीप गोयल बोले, "यहां भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। कोर्ट परिसर के आसपास लगभग 500 पुलिसकर्मी मुस्तैद किए गए हैं। साथ ही बैरिकेडिंग भी की गई है।" वहीं, रोहतक रेंज के आईजी संदीप खिरवार ने बताया, "हमने जेल के आसपास 2-टियर सुरक्षा व्यवस्था का बंदोबस्त किया है। 500 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं और एरियल ड्रोन भी लगाए गए हैं। हम सुनिश्चित कर रहे हैं कि किसी प्रकार से लोगों को दिक्कत पैदा न हो।

कहीं भी नहीं जुटने दी जा रही है भीड़

हरियाणा में, विशेषकर पंचकूला, सिरसा (डेरा मुख्यालय) और रोहतक जिलों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं। यहां कानून व्यवस्था से जुड़ी किसी भी स्थिति से निपटने के लिये राज्य सशस्त्र पुलिस की कई कंपनियों, दंगा विरोधी पुलिस और कमांडो बल को तैनात किया जा रहा है। हरियाणा के अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक (कानून-व्यवस्था) मोहम्मद अकील ने कहा, "हरियाणा में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।" पुलिस अधिकारी ने बताया कि सभी जिलों की पुलिस को लोगों को गैरजरूरी रूप से जमा होने से रोकने और अतिरिक्त निगरानी रखने के निर्देश दिये गए हैं। उन्होंने कहा कि कई इलाकों में नाकेबंदी भी की गई है। पुलिस ने कहा कि सिरसा में डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय के नजदीक अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है।

कौन है राम रहीम?

राम रहीम का पूरा नाम गुरमीत राह रहीम सिंह है। वह 51 साल का है और डेरा सच्चा सौदा का प्रमुख है। डेरा की स्थापना 29 अप्रैल को 1948 में मस्ता बलूचिस्तानी ने की थी। डेरा का मुख्यालय हरियाणा के सिरसा में है और देश भर में उसके लगभग 46 आश्रम फैले हैं। डेरा प्रमुख जेल में होने के बाद भी कई लोगों के दिलो-दिमाग में बसा है। साल 2015 में उसे इंडियन एक्सप्रेस ने 100 सबसे शक्तिशाली भारतीयों की सूची में 96वें पायदान पर जगह दी थी। हालांकि, विगत सालों में वह विवादों में भी घिरा रहा है। 2002 के बाद उसका नाम बलात्कार और हत्या समेत कई मामलों में सामने आया था।

राम रहीम के कहने पर हुई थी छत्रपति की हत्या : पूर्व ड्राइवर

पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह ने पूर्व में बताया था कि छत्रपति की हत्या राम रहीम के कहने पर हुई थी। सूत्रों के मुताबिक, छत्रपति ने अपने अखबार के जरिए बताया था कि कैसे डेरा गलत तरीकों और जरियों से एक ताकतवर सामाज्र्य बन गया। खट्टा, सीबीआई के अहम गवाहों में से एक हैं, जिससे पहले जांच एजेंसी ने हत्या मामले में 2007 में चार्जशीट दाखिल की थी।

गुरमीत राम रहीम को लेकर पत्रकार रामचंद्र छत्रपति ने पूरा सच नामक अपने अखबार में कई चौंकाने वाले खुलासे किए थे। धार्मिक डेरे को लेकर उन्होंने कई रिपोर्ट्स लिखीं थीं। वहीं, गुप्त नाम से भेजे गए कुछ ऐसे पत्र प्रकाशित भी किए थे, जिनमें डेरे के भीतर महिलाओं से राम रहीम के शोषण करने की घटनाओं का जिक्र था।



साधवियों से रेप का दोषी है राम रहीम, फैसले के बाद भड़की थी हिंसा

खुद को बाबा बताने वाला गुरमीत राम रहीम इस वक्त सलाखों के पीछे है। साधवियों से रेप के दोष में वह 20 साल जेल की सजा काट रहा है। 25 अगस्त 2017 को उसे दोषी करार दिए जाने के बाद पंचकूला में हिंसा भड़क उठी थी। उस दौरान लगभग 30 लोग मारे गए थे, जबकि कई लोग जख्मी हुए थे। वहीं, सिरसा जिले में भी हिंसा हुई थी, जिसमें छह लोगों की जान चली गई थी और कुछ घायल हुए थे।


Share it
Top