दिल्ली HC ने सज्जन कुमार को दिया बड़ा झटका, 31 दिसंबर को ही करना होगा सरेंडर

दिल्ली HC ने सज्जन कुमार को दिया बड़ा झटका, 31 दिसंबर को ही करना होगा सरेंडर

नई दिल्ली : 1984 सिख दंगा मामले एक मामले में दोषी करार दिए गए सज्जन कुमार को दिल्ली हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। सज्जन कुमार को 31 दिसंबर को ही सरेंडर करना होगा। दिल्ली हाईकोर्ट ने सज्जन कुमार को सरेंडर करने के लिए और वक़्त देने से इंकार कर दिया है। 1984 सिख दंगा मामले में आजीवन कारावास की सजा पाए कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को 31 दिसंबर को ही सरेंडर करना होगा। दिल्ली हाई कोर्ट ने उन्हें और वक्त देने से इंकार कर दिया है। सज्जन कुमार ने गुरुवार को हाईकोर्ट में अर्जी दायर कर सरेंडर करने के लिए और 30 दिन दिये जाने की गुजारिश की थी।


कोर्ट में दायर याचिका में सज्जन कुमार ने कहा था कि उनका बड़ा परिवार है और उन्हें संपत्ति और पारिवारिक मामलों को सुलझाना है। अभी के हालात के हिसाब से हाई कोर्ट द्वारा 31 दिसंबर तक दिये समय में वह परिवार के मामलों को नहीं निपटा सकते। इसके अलावा सज्जन कुमार का कहना था कि मामले में सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर करना उनका अधिकार है और वर्तमान समय में सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकीलो के अवकाश पर होने के कारण वह अपील नहीं दायर कर सकते। चूंकि वही मामले में अपने एडवोकेट को सही तथ्य बता सकते हैं। ऐसे में उन्हें सरेंडर के लिए 30 दिन की मोहलत दी जाए। लेकिन हाई कोर्ट ने सज्जन कुमार की दलीलों से असहमति जताते हुए कहा कि उनकी अर्जी में कोई ऐसा आधार नहीं है, जिसके आधार पर सरेंडर की अवधि को बढ़ाया जाए।

आपको बात दें कि 17 दिसंबर को दिल्ली हाईकोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में पूर्व सांसद सज्जन कुमार को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए हाईकोर्ट ने सज्जन को हत्या, आपराधिक साजिश, दंगा भड़काने, आगजनी और धार्मिक स्थल को नुकसान पहुंचाने की साजिश का दोषी करार दिया था। साथ ही कोर्ट ने उन्हें 31 दिसंबर तक सरेंडर करने का आदेश दिया था।


Share it
Top