आप भी सीखिए आने वाले महीनों में, कैसे करें अदरक की खेती

आप भी सीखिए आने वाले महीनों में, कैसे करें अदरक की खेती

अदरक कि खेती विभिन्न प्रकार कि मृदाओं में कि जा सकती है लेकिन उचित जल निकास वाली दोमट या रेतीली दोमट और ठोस चिकनी मिट्टी इसके लिए उपर्युक्त रहती है भूमि कम क्षारांस वाली होनी चाहिए काफी धूप मिलने वाली खुली जगहों में एकल फसल के रूप में नारियल, सुपारी, काली मिर्च इत्यादि फसलों के अंत: सस्यन के रूप में अदरक कि खेती कि जा सकती है रबड़ के बाग में भी पहले तीन वर्ष तक अदरक कि खेती कि जा सकती है।

भूमि की तैयारी

अप्रैल – मई में मिट्टी पलटने वाले हल से जुताई करनी चाहिए और उसके उपरांत 4-5 जुताई हैरों या कल्टीवेटर से करें, जुताई उसके उपरांत पाटा चलाये ऐसा करने से भूमि समतल और भुरभुरी हो जाती है, सूत्र क्रीमी से बचाव के लिए बोवाई से पूर्व मिट्टी में 10-15 किलो ग्राम प्रति हेक्टेयर 100 किलो माइक्रो नीम कि खाद अवश्य डाले और अदरक के बीज को कैरासिन तेल से उपचारित कर बुवाई करें।

प्रजातियां

भारत एवं विदेशों में फसल व गुणवत्ता कि दृष्टि से अदरक कि विभिन्न किस्में उगाई जाती हैं वाणिज्यिक तौर पर कच्चा अदरक , तैलिराल व सौंठ के लिए सिफारिश कि गई है इनकी किस्म निम्न प्रकार है : –

कच्चा अदरक

रयो डी – जनीरो, चीन वाय नाटू लोकल, टफनागिया तैलीराल रयो डी – जनिरो

सौंठ

मारना वायनाटू मनन्तवाटी वल्लनाटू एरनाटू , कुरुंघपटी

नवीनतम किस्में

सुप्रभा

इस किस्म में फुटाव अधिक होता है इसके प्रकांड लम्बे, अंडाकार सिरों वाले, चमकीले, भूरे रंग के होते है, यह किस्म पर्वतीय क्षेत्रों के 4.4 प्रतिशत, 1.9 प्रतिशत तेल 1 8.9 प्रतिशत ओलेरिओसिन रेशा लिए अति उत्तम है।

सुरुचि

इसके प्रकन्द हरापन लिए पीले रंग के होते है जिनमे रोग कम, रेशा 3.8 प्रतिशत और ओलेरिओसिन 10 प्रतिशत होता है इसमें रोग कम लगता है यह एक अधिक उपज देने वाली किस्म है।

सुरभि

इस किस्म को उत्परिवर्तन मंयुटेशन से विकसित किया गया है इसके प्रकन्द में तेल 2.1 प्रतिशत पाया जाता है प्रकन्द अधिक संख्या में बनते है जिनका छिलका गहरे चमकीले रंग का होता है यह एक अधिक उपज देने वाली किस्म है।

बीज बुवाई

बुवाई का समय

अदरक कि बोवाई मई-जून में कि जाती है जहां पर सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो वहां पर इसकी बुवाई अप्रैल से मई के मध्य तक करनी चाहिए , परन्तु जहां पर वर्षा आधारित फसल उगानी हो, वहां पर पहली वर्षा के ठीक बाद बुवाई करनी चाहिए बुवाई के समय का उपज पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

बीज की मात्रा

एक हेक्टेयर के लिए लगभग 20-25 क्विंटल बीज प्रकंदो कि आवश्यकता होती है बोने के लिए रोगमुक्त बीज प्रकंदो कि आवश्यकता होती है जिन्हें 4-5 से मी. आकार के टुकड़ों में काट लेते है प्रत्येक टुकड़े का भार 25-30 ग्राम तक होना चाहिए जिसमे कम से कम दो आंखें अवश्य होनी चाहिए।

बीजोपचार

5 लीटर देशी गाय का मट्ठा लेकर उसमे प्रति लीटर 3 चने के आकार के बराबर हिंग लेकर अच्छी तरह घोल कर बीज या पकंदो को डाल कर अच्छी तरह भिगो दे बीज या प्रकंदो के सूखने पर बुवाई करें।

5 लीटर देशी गाय के गौ मूत्र में बीज या प्रकंदो को भिगोकर सूखने पर बुवाई करें।

केरासिन तेल से प्रकंदो या बीज को उपचारित कर बुवाई करे। उपरोक्त विधि से उपाचार कर बीज बुवाई करने से भूमि जनित रोगों से बचाव हो जाता है। बिज प्रकंदो को सदैव पंक्तियों में बोना चाहिए पंक्तियों कि आपसी दूरी 15 – 20 सेमी. और पौधों कि आपसी दूरी 15-20 सेमी. रखनी चाहिए प्रकंदो को 4 सेमी. से अधिक गहरा नहीं बोना चाहिए बोने के उपरांत बिज प्रकंदो को मिट्टी से भली भांति ढ़ंक देना चाहिए बुवाई के तुरंत बाद ऊपर से गोबर कि खाद या घास फूस पत्तियां से ढ़ंक देना चाहिए ऐसा करने से मिट्टी के अन्दर नमी बनी रहती है और तेज धूप के कारन अंकुरण पर प्रतिकूल प्रभाव भी नहीं पड़ता है।

आर्गनिक जैविक खाद

अदरक मृदा से अधिक मात्रा में पोषक लेती है 25-30 टन प्रति हेक्टेयर सड़ी हुयी गोबर कि खाद और आर्गनिक 2 खाद – बैग भू पावर वजन 50 किलो ग्राम या 2 – बैग माइक्रो फर्टी सिटी कम्पोस्ट 40 किलो ग्राम, 2 बैग माइक्रो भू पावर वजन वजन 10 किलो ग्राम, 2 बैग सुपर गोल्ड कैल्सी फर्ट 10 किलो ग्राम, 2 बैग माइक्रो नीम वजन वजन 20 किलो ग्राम और 50 किलो अरंडी कि खली इन सब खादों को मिलाकर प्रति एकड़ खेत में सामान मात्रा में बिखेर कर जुताई कर खेत तैयार कर बिज कि बुवाई करे और बुवाई 25-30 दिन बाद माइक्रो झाइम 500 मीली. और 2 किग्रा. सुपर गोल्ड मैग्नीशियम 400 लीटर पानी में मिलाकर अच्छी तरह घोलकर तर बतर करपम्प द्वारा छिड़काव करे दूसरा तीसरा छिड़काव 25-30 दिन बाद आवश्यकता अनुसार करते रहे इस तरह से स्वादिष्ट स्वास्थ्य वर्धक और निरोग अदरक का उत्पादन करें।

गौ मूत्र

10 लीटर देसी गाय का गौ मूत्र लेकर पारदर्शी कांच या प्लास्टिक के बर्तन में लेकर 10-15 दिन तक धुप में रखे और आधा लीटर प्रति पम्प पानी में मिलाकर प्रयोग करें।

नीम का काढ़ा

25 ग्राम नीम कि ताजी पत्ती तोड़कर कुचल कर पीस कर किलो 50 लीटर पानी में उबालते है जब पानी 20 – 25 लीटर रह जाये उतार कर ठंडा कर आधा लीटर प्रति पम्प पानी में मिलाकर प्रयोग करते है।

सिंचाई

अदरक कि फसल में भूमि में बराबर नमी रहना चाहिए पहली सिंचाई बोवाई के कुछ दिन बाद ही करते है और जब तक वर्षा प्रारंभ न हो जाये 15 दिन के अंतर पर सिंचाईयां करते रहते है गर्मियों में प्रति सप्ताह सिंचाई करनी चाहिए।

खर पतवार नियंत्रण

अदरक के खेत को खर पतवार रहित रखने और मिट्टी को भुर भरा बनाये रखने के लिए आवश्यकतानुसार – निराई गुड़ाई करनाचाहिए अदरक कि फसल अवधी में 2-3 बार निराई-गुड़ाई करना पर्याप्त होता है प्रत्येक निराई के उपरांत मिट्टी अवश्य चढ़ानी चाहिए।

रोग नियंत्रण

मूल बिगलन या मृदु बिगलन

यह अदरक का प्रमुख रोग है जो पिथियम एफेनीडरमेटम नामक फफूंदी द्वारा होता है इस रोग के प्रकोप के कारण नीचे कि पत्तियां पीली पड़ जाती है बाद में पूरा पौधा पीला पड़ कर मुरझा जाता है भूमि के समीप का भाग पनीला एवं कोमल हो जाता है पौधों को खीचने पर वह प्रकांड से जुड़े स्थान से सुगमता से टूट जाता है बाद में पूरा प्रकंद सड़ जाता है जिसे प्रकंद बिगलन कि संज्ञा दी जाती है इस रोग के बीजाणु भूमि में विद्यमान रहते है और बीज के रूप में प्रयुक्त प्रकंद भी बीजाणु अपने साथ ले जाते है इसलिए इस रोग से प्रभावी बचाव हेतु दोनों को ही उपचारित करना पड़ता है उपरोक्त उपचारित करने कि बिधि से प्रकंदो को उपचारित करते है और माइक्रो नीम और अरंडी कि खली का खाद जमीन या भूमि में अवश्य देते है।

यह एक संक्रामक रोग है यह रोग केरल में विशेष रूप से लगता है जलांश नष्ट होकर पत्तो का लटक जाना इसका प्रथम लक्षण है भरी वर्षा के बाद पुन: धूप निकलते समय इसका प्रथम लक्षण प्रकट होता है धीरे-धीरे कुछ दिनों में सभी पत्ते लटकने लगते है लटकते हुए पत्तों के छोर में पहले केसर युक्त पीला पन दिखाई पड़ता है 3-4 दिन में पूरे पत्ते इस रोग से ग्रसित हो जाते है इस रोग के रोकथाम के लिए गौ मूत्र या नीम का काढ़ा का माइक्रो झाइम के साथ मिला कर छिड़काव करना चाहीये।

पत्ती धब्बा

यह रोग फिलोसटीकटा जिंजी बरी नामक फफूंदी के कारण होता है पत्तियों पर अंडाकार या अनियमित आकार के धब्बे पड़ जाते है जो बाद में आपस में मिल जाते है पौधों कि वृद्धि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है प्रकंदो कि उपज कम हो जाती है इसकी रोकथाम के लिए नीम का काढ़ा या गौ मूत्र का माइक्रो झाइम के साथ मिलाकर छिड़काव करे।

खुदाई

ऊसल कि खुदाई इस बात पर निर्भर करती है उसे किस उद्देश्य के लिए उगाया गया है कच्चे अदरक के रूप में इसे छठे महीने में खोद लेना चाहिए जब कि सौंठ के लिए 8 महीने बाद खुदाई करनी चाहिए फसल के पकने पर पत्ते पीले पड़कर सुख जाते है बड़ी सावधानी से मिट्टी खोदकर अदरक निकालते है।

उपज

अदरक कि उपज उसकी किस्म भूमि कि उपजाऊ पन और फसल कि देखभाल पर निर्भर करती है आमतौर पर प्रति हेक्टेयर 100 – 150 ताजे प्रकंद मिल जाते है जो सुखाने पर 20 से 30 क्विंटल सोंठ के रूप होते है।

भंडारण

दिसंबर-जनवरी महीने में अगली खेती के पहले बीज को 4 -5 महीनों तक सुरक्षित रखना है भारतीय मशाला अनुसंधान संस्थान ने इसके लिए बहुत ही सरल और कम खर्च वाली रीती विकसित कि है इसके अनुसार अदरक बीज क्युनल फोस 0.1′ और कम मैकोजेब 0.3 घोल में 1 लीटर पानी में 4 मीली. क्युनालफोस 25 इ.सी. पर 3 मैकोजेब कि दर से तैयार किये गए मिश्रण में 30 मिनट तक डुबोकर रखने के बाद छाया दार जगहों में सुखाना चाहिए सामान्यतया जहां जीवाणुकम्लानि कि संभावना होती है वहां 10 लीटर पानी में 2 स्ट्रेपटरोसेक्लिन कि दर से तैयार किये गए घोल में 30 मिनिट तक डुबोकर रखना चाहिए। अदरक के बीज प्रकंदो के भंडारण के लिए छायादार जगह में पर्याप्त लम्बा-चौड़ा और लगभग 60 सेमी. गहराई का गड्ढ़ा तैयार करना चाहिए यदि मिट्टी दुर्बल है तो गड्ढे के चारों ओर भीतर से ईट रखना है कीचड़ और गोबर के मिश्रण से गड्ढे कि भीतरी सतह को पोत देना चाहिए

गड्ढे के नीचे लगभग 2 सेमी. तक रेत डालकर उसमे ऊपर 10 सेमी. उंचाई तक अदरक के बीज रखना चाहिए इस तरह रेत क्रमानुक्रम में 45-50 सेमी. तक गड्ढा भर देना चाहिए इसके बाद गड्ढा एक तख्त से ढकना चाहिए जिसके बीच में एक छेद भी होना चाहिए ज्यादा गर्मी और वर्षा से बीजों को बचाने के लिए भंडारण के ऊपर नारियल या ताड़ के पत्तों से छप्पर बनाना चाहिए ऐसे तैयार किये अदरक के बीजों का लगभग 20-25 दिनों के उपरांत तख्त निकाल कर जांच करें और सूखे या गले सादे बीजों को निकाल दे।

पलवार

पत्तियों का पलवार देने से अंकुरण अच्छा होता है और खरपतवार भी कम मिलते है तीन बार पलवार देने से अधिक उपज मिलती है 5000 किलो ग्राम हरी पत्तियों के पलवार 30 दिन व 60 दिन के बाद देते है जब पौधा 20 – 25 से.मी. ऊंचे हो जाये तो उन पर मिट्टी चढ़ा देते है।

अदरक बिज का संकलन

बीज रूप में अदरक का संकलन किट मुक्त व कीटाणु रहित पौधों से करना चाहिए, अदरक का बीज लेते समय यह सावधानी रखनी चाहिए कि अंकुरों पर क्षति न पंहुच जाए।

Share it
Top