अखरोट को मेवों का राजा कहा जाना हरगिज गलत नहीं होगा,कई जानलेवा बीमारियों से बचाव का कारगर उपाय है ये

अखरोट को मेवों का राजा कहा जाना हरगिज गलत नहीं होगा,कई जानलेवा बीमारियों से बचाव का कारगर उपाय है ये

नई दिल्ली : यूं तो सभी सूखे मेवों का सेवन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है, पर उनमें से भी अखरोट को सर्वोच्च माना जाता है। अगर उसे अपनी रोजमर्रा की डाइट में शामिल किया जाए तो वह हर किसी के लिए लाभदायक रहता है। स्वाद में फीका होने के बावजूद उसे खाने की अनेक ऐसी वजहें हैं, जिन्हें नकारा नहीं जा सकता है।


अखरोट को मेवों का राजा कहा जाना हरगिज गलत नहीं होगा, क्योंकि उसमें खासियत ही इतनी है। बाकी मेवों की तुलना में अखरोट खाने की सलाह सर्वाधिक दी जाती है। जानते हैं, इस विशिष्ट मेवे के बारे में। यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा और रक्तचाप को नियंत्रित रखता है। डायबिटीज के मरीजों को रोज अखरोट खाने की सलाह दी जाती है।

अखरोट एक ड्राई फ्रूट है, जो कि बाहरी भाग कठोर होता है और इसे मुख्य व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। मिठाई और सलाद आदि में प्रयोग किया जाता है। यह प्रोटीन का अच्छा स्रोत होता है। यही नहीं अखरोट बॉडी से बुरी कोलेस्ट्रॉल को निकालने में मदद करता है। यह ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होता है. इसमें एंटी-इंफ्लैमेटरी गुण होते हैं, जो ब्लड प्रेशर के खतरे को कम करने में सहायक होता है।

दिल की बीमारियों से बचाएं

इसमें मौजूद अल्फा लिनोलेनिक एसिड शरीर में खून के थक्के को जमने से रोकता है, जिससे हृदय रोगों का खतरा कम हो जाता है। जिन्हें किसी भी प्रकार की हृदय संबंधी समस्या हो, उनके लिए यह बेहद फायदेमंद है।

डायबिटीज से बचाएं

एक शोध के मुताबिक जो महिलायें सप्ताह में दो बार 28 ग्राम अखरोट खाती हैं, उन्हें टाइप टू डायबिटीज होने का खतरा 24 फीसदी कम होता है।

डिमेंशिया को रखे दूर

रोजाना अखरोट का सेवन आपको डिमेंशिया से दूर रखने में मदद करता है। शोध के मुताबिक अखरोट में मौजूद विटामिन ई और फ्लेवनॉयड डिमेंशिया उत्पन्न करने वाले हानिकारक फ्री-रेडिकल्स को नष्ट करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही अखरोट सीखने की क्षमता को भी बढ़ाता है।

कैंसर की बीमारियों से बचाएं

कैंसर रोगियों के लिए भी यह किसी वरदान से कम नहीं है। किसी भी तरह की क्रॉनिक डिजीज होने पर मरीज को अखरोट का सेवन नियमित रूप से करना चाहिए।

गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद

गर्भवती महिलायें जो अखरोट जैसे फैटी एसिड युक्त आहार का सेवन करती हैं, उनके बच्चों को फूड एलर्जी होने की आशंका बहुत कम होती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि मांओं के आहार में पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (पूफा) होता है उनके बच्चे का विकास अच्छी तरह होता है।

कोलेस्ट्रॉल को रखे नियंत्रण में

यह उन लोगों के लिए भी बहुत हितकर है, जिनका कोलेस्ट्रॉल बढा हुआ हो। अखरोट कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रण में रखता है। अखरोट माइक्रो-न्यूट्रिएंट्स का बेहद अच्छा सोर्स है। इसमें जिंक व मैग्नीशियम काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है।

वजन कम करें

अखरोट में प्रोटीन, विटमिन और खनिज तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। उनके अलावा यह फैट का भी बहुत अच्छा सोर्स होता है। इसमें ओमेगा-3 व ओमेगा-6 फैटी एसिड काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है।

दिमाग भी तेज

इसमें मौजूद विटमिन बी एवं फोलेट्स याद्दाश्त को दुरुस्त रखने में सहायक होते हैं। इसके नियमित सेवन से दिमाग भी तेज होता है। इसलिए इसे ब्रेन फूड के नाम से भी जाना जाता है।

बालों के लिए फायदेमंद

अखरोट का तेल बालों की सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है। यह बालों को मजबूत करके उन्हें झडऩे से रोकता है। अखरोट में मौजूद विटामिन बी7 होता है जो आपके बालों को मजबूत बनाने का काम करता है। विटामिन बी7 बालों का गिरना रोककर उन्हें बढ़ाने में मदद करता है।

इसके अलावा भी कई गुण हैं अखरोट में। ध्यान रखें कि वे छिलकेदार हों। मार्केट में छिले हुए अखरोट भी मिलते हैं, पर वे सेहत के लिए ठीक नहीं होते। अगर इन्हें लेना हो तो अच्छी तरह पैक किए हुए अखरोट ही खरीदें। उन्हें हमेशा एयर टाइट डिब्बों में बंद करके फ्रिज में रखें।

Share it
Top