UTI होने पर नहीं कर सकते हैं सेक्‍स, जानिए क्‍या ये संक्रामक होता है?

UTI  होने पर नहीं कर सकते हैं सेक्‍स, जानिए क्‍या ये संक्रामक होता है?

अमेरिका । अगर आप UTI की समस्‍या से गुजर रहे हैं तो आपको सेक्‍स करने के बारे में सोचना भी नहीं चाहिए। विशेषज्ञों के अनुसार यदि आप यूटीआई के साथ सेक्‍स करने के बारे में सोच रहे हैं तो ये इंफेक्‍शन की स्थिति को और बुरा बना सकता है, ये उसे पहली बारी स्थिति (जहां से इंफेक्‍शन शुरू हुआ था ) में पहुंचा सकता है। अगर आपको लगता है कि यूटीआई होने पर सेक्‍स करने से ये आपके पार्टनर को भी चपेट में लग सकता है। तो आप बिल्‍कुल गलत सोच रहे हैं। यूटीआई संक्रामक नहीं होता है। एसटीडी सेक्‍स के माध्‍यम से पार्टनर तक फैल सकता है। अगर आपको लगता है कि सेक्‍स के माध्‍यम से आपके पार्टनर संक्रमित हुए है तो वो यूटीआई नहीं क्‍लैमिडिया या गोनोरिया हो सकता है।




नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ हेल्‍थ की माने तो , 40 से 60 प्रतिशत महिलाएं अपने जीवनकाल के दौरान UTI से जरुर जूझती हैं, और इनमें से भी एक-चौथाई महिलओं को एक बार ये इंफेक्‍शन होने के बाद बार-बार ये इंफेक्‍शन होता है। क्‍या आपने कभी सोचा है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यह अधिक आम क्यों है? चूंकि महिलाओं का मूत्रमार्ग छोटा होता है, इसलिए ई. कोलाई जैसे बैक्टीरिया रेक्‍ट्रेम से आसानी से शरीर में पहुंच जाते है। अगर आपको यूटीआई है और आप सेक्‍स करने का सोच रहे हैं तो ये खबर आपके ल‍िए ही हैं, आइए पढ़िए जरा।

आपको इस संक्रमण से बचने के ल‍िए कुछ बातों का ध्‍यान रखना बेहद जरुरी है। जैसे कि एनल सेक्‍स करने के बाद वजाइनल सेक्‍स कभी भी न करें। अगर आपको एनल सेक्‍स में आनंद महसूस होता है तो इस बात का खास ध्‍यान रखेंकि एनल सेक्‍स के दौरान आपको साथी उस हिस्‍सें पर खरोंच न मारे, क्‍योंकि इस वजह से ये संक्रमण फैल सकता है। आपने शायद सुना होगा कि सेक्‍स के बाद पेशाब जरूर करना चाहिए ताकि कोई भी जननांगों में देर तक रहने वाला बैक्‍टीरिया अंदर न टिके। अगर आपको थोड़ा सा भी यूटीआई होने के लक्षण दिखाएं देते है तो डॉक्‍टर्स से क्रैनबेरी से निर्मित दवाईयों के बारे में बात करें। ये ई कोलाई बैक्टीरिया जैसे बैक्‍टीरिया को मूत्राशय की दीवार के आसपास आने से बचाती है।




सबसे पहले, इसका इलाज करवाएं। आपका डॉक्‍टर आपके यूरिन की जांच करके इस बात की पुष्टि करेगा कि आपको यूटीआई है। इसके आधार पर आपको एंटीबॉयोटिक दवाईयां दी जाएंगी। एक बार जब आप पूरी तरह से डॉक्‍टर की बताई दवाईयां लेकर इलाज करवाते है और पूरी तरह से UTI के लक्षण खत्‍म हो जाते है तो अब आप दोबारा सेक्‍स करने के ल‍िए सुरक्षित हैं। अगर इलाज पूरा होने के बाद अगर सेक्‍स करते वक्‍त आपको जलन या दर्द महसूस होता है तो इसका मतलब है कि आपका इंफेक्‍शन पूरी तरह खत्‍म नहीं हुआ है। आपको अभी रुकने की जरुरत है।

सेक्‍स के दौरान अपने यूटीआई को फैलने से रोकने के ल‍िए इन बातों विशेष ध्‍यान रखें।

सेक्स से पहले पेशाब करें, और तुरंत बाद में। सेक्स से पहले और बाद में अपने जननांग और गुदा क्षेत्रों को साफ करें। रहें हाइड्रेटेड और बहुत सारे पानी पीते हैं; यह बैक्टीरिया के आपके मूत्र पथ से छुटकारा पाने में मदद करेगा। डायाफ्राम या शुक्राणुनाशक का उपयोग अपने जन्म नियंत्रण के रूप में न करें


Share it
Top