जानें, कौन सा नमक आपकी सेहत के लिए है फायदेमंद, 1 नहीं 5 तरह का होता है नमक

जानें, कौन सा नमक आपकी सेहत के लिए है फायदेमंद, 1 नहीं 5 तरह का होता है नमक

रायपुर : नमक के बिना खाने के स्वाद की कल्पना भी नहीं की जा सकती। कुछ लोग कम नमक खाना पसंद करते हैं तो कुछ लोग ज्यादा। नमक सोडियम का सबसे अच्छा और सीधा स्रोत है। सोडियम खाना पचाने के साथ ही हमारे पाचन तंत्र को भी सही बनाए रखता है। लेकिन जब लोग सोडियम का ज्यादा मात्रा में सेवन करने लगते हैं तो ये शरीर को फायदे की जगह नुकसान पहुंचाता है। हम आपको बता रहे हैं कि नमक सिर्फ 1 नहीं बल्कि 5 तरह का होता है और कौन सा नमक आपके लिए फायदेमंद है, जानें...

टेबल सॉल्ट या सादा नमक

इस नमक में सोडियम की मात्रा सबसे ज्यादा होती है। टेबल सॉल्ट में आयोडीन भी पर्याप्त मात्रा में होता है, जो हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। अगर इस नमक का सीमित मात्रा में सेवन किया जाए तो इससे कई फायदे होते हैं, लेकिन इसका ज्यादा मात्रा में सेवन हमारी हड्डियों को सीधे तौर पर नुकसान पहुंचाता है जिससे हड्डियां कमजोर होने लगती हैं।

सेंधा नमक

इसे रॉक सॉल्ट या व्रत वाले नमक के नाम से भी जाना जाता है। यह नमक बिना रिफाइन के तैयार किया जाता है। हालांकि इसमें कैल्शियम, पोटैशियम और मैग्नीशियम की मात्रा सादे नमक की तुलना में काफी ज्यादा होती है। साथ ही यह हमारे स्वास्थ्य के लिए भी बहुत अच्छा होता है।

काला नमक

काला नमक खाने से कब्ज, बदहजमी, पेट दर्द, चक्कर आना, उल्टी आना और जी घबराने जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है इसलिए इसका सेवन सभी के लिए फायदेमंद है। गर्मी के मौसम में डॉक्टर भी नींबू पानी या फिर छाछ के साथ काला नमक का सेवन करने की सलाह देते हैं। काला नमक भले ही सेहत के लिए कई मायनों में फायदेमंद हो लेकिन इसमें फ्लोराइड अधिक होता है और इसके अधिक सेवन से शरीर को नुकसान हो सकता है।

लो-सोडियम सॉल्ट

इस नमक को बाजार में पौटेशियम नमक भी कहा जाता है। हालांकि सादा नमक की तरह इसमें भी सोडियम और पोटैशियम क्लोराइड होते हैं। जिन लोगों को ब्लड प्रेशर की समस्या होती हैं उन्हें लो सोडियम सॉल्ट का सेवन करना चाहिए। इसके अलावा हदय रोगी और मधुमेह रोगियों के लिए भी यह नमक फायदेमंद होता है।

सी सॉल्ट

यह नमक वाष्पीकरण के जरिए बनाया जाता है और यह सादा नमक की तरह नमकीन नहीं होता है। सी सॉल्ट का सेवन पेट फूलना, तनाव, सूजन, आंत्र गैस और कब्ज जैसी समस्याओं के वक्त सेवन करने की सलाह दी जाती है।


Share it
Top