SUNSTAR TV

भिलाई इस्पात संयंत्र में वेल्डिंग के दौरान ठेका श्रमिक की करंट से मौत ट्रक की ठोकर से बाइक सवार युवक की मौत, चालक के खिलाफ मामला दर्ज गोल्ड ईटीएफ योजनाओं की परिसंपत्तियां चालू वित्त वर्ष के शुरुआती चार महीनों में बढ़कर 5,079.22 करोड़ रुपये पर पहुंची 8 लाख रुपए के ईनामी नक्सली ने किया आत्मसमर्पण, हत्या, लूट, आगजनी जैसी बड़े वारदातों में था शामिल शहीद नेताओं के नाम पर 1500 खिलाड़ियों का किए सम्मान तेज रफ्तार यात्री बस अनियंत्रित होकर पलटी, 7 यात्री घायल नाबालिग लड़की से स्कूल लिपिक ने की छेड़छाड़, पुलिस ने किया गिरफ्तार छत्तीसगढ़ संयुक्त प्रगतिशील कर्मचारी महासंघ ने किया छंटनी रोको आंदोलन दिनदहाड़े दबंगों ने पति के सामने पत्नी का किया गैंगरेप, 5 के खिलाफ मामला दर्ज एफपीआई ने घरेलू पूंजी बाजारों से अगस्त महीने में अब तक 3,014 करोड़ रुपये की निकासी की कुएं से जहरीली गैस के रिसाव से एक की मौत, एक गंभीर क्राउन प्रिंस ने पीएम मोदी को दिया UAE का सर्वोच्च सम्मान, बौखलाया पाकिस्तान रहाणे और कोहली की जोड़ी ने टेस्ट क्रिकेट में हासिल की बड़ी उपलब्धि ट्रेन से कटकर महिला समेत 3 बच्चों की मौत, एक बच्ची घायल फांसी के फंदे से लटका मिला ट्रैक मैन का शव,साथी रह गए सन्न शेयर दिलाने के नाम पर 10 करोड़ 33 लाख की ठगी रेलवे स्टेशन पर गाने वाली रानू मंडल ने पहली बार सुनाई अपनी दर्द भरी दास्तां अस्पताल में भर्ती किशोरी से किया दुष्कर्म पंडित मोहन लाल गौतम के जन्मदिवस पर आयोजित समारोह में अलीगढ़ आए थे अरुण जेटली हवाई जहाज में दोनों पायलटों को एक जैसा खाना क्यों नहीं दिया जाता,जानिए वजह

उच्च हिमालयी क्षेत्र की शान हैं हिम तेंदुए, पहली बार उठेगा उनकी तादाद से पर्दा

Som Dewangan 18-05-2019 19:51:05



देहरादून। उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्र की शान कहे जाने वाले हिम तेंदुओं की वहां वास्तविक संख्या कितनी है, यह राज जल्द ही बेपर्दा होगा। सिक्योर हिमालय परियोजना में शामिल गंगोत्री-गोविंद लैंडस्केप से लेकर अस्कोट सेंचुरी तक के क्षेत्र में इस वर्ष हिम तेंदुओं के संरक्षण एवं वासस्थल विकास पर खास फोकस होगा। साथ ही वहां इनकी संख्या जानने के मकसद से कैमरा ट्रैप की संख्या भी बढ़ाई जाएगी। इस मुहिम को गति देने के लिए राज्य ने संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) से 3.16 करोड़ की धनराशि मांगी है। परियोजना के तहत इस उच्च हिमालयी क्षेत्र में पड़ने वाले 60 गांवों में आजीविका विकास के कार्यक्रम भी संचालित किए जाएंगे। 

यूएनडीपी के सहयोग से उत्तराखंड समेत चार हिमालयी राज्यों हिमाचल, जम्मू-कश्मीर व सिक्किम में सिक्योर हिमालय परियोजना पिछले वर्ष से चल रही है। उत्तराखंड में इस परियोजना में गंगोत्री नेशनल पार्क व गोविंद वाइल्डलाइफ सेंचुरी और अस्कोट वाइल्डलाइफ सेंचुरी के दारमा-व्यास घाटी क्षेत्र को शामिल किया गया है। जैव विविधता के लिए मशहर इस क्षेत्र में हिम तेंदुओं का भी बसेरा है। उत्तरकाशी व पिथौरागढ़ जिलों के इन क्षेत्रों में लगे कैमरा ट्रैप में हिम तेंदुओं की तस्वीरें तो अक्सर कैद होती रहती हैं, मगर इनकी वास्तविक संख्या को लेकर अभी भी रहस्य बना हुआ है। 

ऐसे में सिक्योर हिमालय परियोजना ने हिम तेंदुओं के संरक्षण के साथ ही इनकी गणना के लिहाज से उम्मीद जगाई है। हालांकि, पिछले वर्ष इस क्रम में अध्ययन किया गया था और बात सामने आई थी कि इस क्षेत्र में हिम तेंदुओं का लगातार मूवमेंट है। तब अध्ययन रिपोर्ट में वहां कैमरा ट्रैप की संख्या बढ़ाने के साथ ही इनके संरक्षण और वासस्थल विकास पर खास ध्यान केंद्रित करने का सुझाव दिया गया था। 

यही कारण है कि इस क्षेत्र में सिक्योर हिमालय परियोजना की चालू वित्तीय वर्ष की वार्षिक कार्ययोजना में हिम तेंदुओं पर खास फोकस किया गया है। मुख्य वन संरक्षक वन्यजीव आरके मिश्रा ने बताया कि वार्षिक कार्ययोजना में इस वर्ष के लिए 3.16 करोड़ का प्रस्ताव यूएनडीपी को भेजा गया है। उन्होंने बताया कि हिम तेंदुओं को केंद्र में रखकर कार्ययोजना तैयार की गई है। इसके तहत हिम तेंदुओं के वासस्थल विकास, सुरक्षा को कदम उठाए जाएंगे। इन इलाकों में कैमरा ट्रैप की संख्या बढ़ाई जाएगी, जो सुरक्षा के साथ ही इनकी संख्या का पता लगाने में कारगर होंगे। 

उन्होंने बताया कि कार्ययोजना के तहत स्थानीय ग्रामीणों की आजीविका विकास को भी कदम उठाए जाएंगे। इनमें गोविंद वाइल्डलाइफ सेंचुरी के 43 और अस्कोट सेंचुरी के 17 गांव शामिल हैं। इन गांवों में जड़ी-बूटी एवं फलोत्पादन, रोजगारपरक प्रशिक्षण, स्थानीय उत्पादों का विपणन, चारा विकास, इको टूरिज्म जैसे कदम उठाए जाने प्रस्तावित हैं। 

गत वर्ष सरेंडर करनी पड़ी थी राशि 

सिक्योर हिमालय के तहत पिछले साल तीन करोड़ की राशि उत्तराखंड को मिली थी, मगर इसका आधा हिस्सा सरेंडर करना पड़ा था। बजट देरी से मिलने को इसकी वजह बताया गया था। इससे सबक लेते हुए इस बार वक्त पर वार्षिक कार्ययोजना भेजी गई है। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :