मायावती के प्रमुख सचिव रहे पूर्व IAS नेतराम के यहां छापे में मिली 225 करोड़ की संपत्ति

मायावती के प्रमुख सचिव रहे पूर्व IAS नेतराम के यहां छापे में मिली 225 करोड़ की संपत्ति

नई दिल्ली : आयकर विभाग की टीम ने मायावती के प्रमुख सचिव रहे पूर्व आईएएस नेतराम और कपड़ा कारोबारी विष्णु वल्लभ रस्तोगी व दो अन्य कारोबारियों के 11 ठिकानों पर मंगलवार को छापे मारे. इस दौरान अफसरों को दोनों जगहों से करोड़ों रुपये की अघोषित संपत्ति के दस्तावेज मिले, जिन्हें जब्त कर लिया गया है।


नेतराम के लखनऊ के गोमतीनगर बंगले से 18 लाख की रिकवरी की गई जबकि दिल्ली के आवास से 86 लाख की बरामदगी की गई है। वहीँ नेतराम के बैंक लॉकरों में 50 लाख,4 बेनामी लक्ज़री कार बरामद की गई है. इसके अलावा जांच में नेतराम की 225 करोड़ की बेनामी सम्पत्तियों का भी पता चला है।

नेतराम की 30 शेल कम्पनियों का भी खुलासा हुआ है, इन शेल कम्पनियों में उसके सगे-सम्बंधी डॉयरेक्टर हैं। शेल कम्पनियों के बैंक अकाउंट में नेतराम के फैमली मेम्बर साइनिंग अथॉरिटी है. इसके अलावा मुंबई में एक और कोलकाता में 3 बोगस कम्पनियों का पता चला है।

अफसरों ने नेतराम व उनकी बेटी पूनम के दो बैंक खाते व दो लॉकर सीज कर दिए हैं. सूत्रों के अनुसार मुंबई की एक कंपनी पर हुई कार्रवाई के दौरान कनेक्शन नेतराम से जुड़ने पर यह कार्रवाई की गई. नेतराम के अमीनाबाद स्थित मशहूर कपड़ा शोरूम गाढ़ा भंडार के मालिक विष्णु वल्लभ रस्तोगी समेत अन्य कारोबारियों से गहरे ताल्लुकात मिले, जिसके चलते ये भी कार्रवाई की जद में आ गए.

आयकर विभाग के अनुसार अब की कार्रवाई में नेतराम के लखनऊ के आवास से लाखों रुपये, दिल्ली स्थित एक मकान से 86 लाख रुपये और उनसे जुड़े एक व्यक्ति से लाखों रुपये नकद मिले हैं। इसके अलावा 50 लाख रुपये एक लॉकर में रखे होने की जानकारी मिली है. इसकी जांच चल रही है. हालांकि आयकर विभाग इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है। खबरों के मुताबिक कि नेतराम की 30 मुखौटा कंपनियां हैं. उनमें उनके करीबी, रिश्तेदार और परिवार के सदस्य शेयरधारक और निदेशक हैं. इन्हीं करीबियों के जरिए कंपनियों का कामकाज कागजों में चलाया जा रहा था. आयकर अधिकारियों ने बताया कि अपने रिश्तेदारों को इन कंपनियों के शेयर उपहार में दिए थे. उनके आरोप हैं कि बच्चे इन कंपनियों के बैंक खातों को चलाते हैं. इन कंपनियों के माध्यम से कोलकाता के हवाला ऑपरेटर के माध्यम से 95 करोड़ रुपये लिए थे. इसकी इंट्री खातों में दिखी. बाद में इस पैसे से कई जमीनें खरीदी गईं. इसके अलावा डायरियां मिली हैं, जिनमें हाथ से इंट्री दर्ज हैं और अन्य ब्यौरा लिखा गया है कि किस तरह इन शेल कंपनियों को खरीदा और निवेश किया गया।

नेतराम के पास 50 लाख रुपये का बेशकीमती मोंट ब्लांक पेन बरामद हुआ है. इसके अलावा अलग-अलग ठिकानों से चार बेनामी लग्जरी कारें मिली हैं। इनमें दो मर्सडीज और दो फार्रच्यूनर हैं. लखनऊ और दिल्ली में उनके मकानों पर मिनी थिएटर, जिम, बेहद कीमती इंटीरियर और फिटिंग्स मिले हैं।


Share it
Top