लड़की बाजी के चक्कर में दोस्त ने दोस्त को उतारा मौत के घाट

लड़की बाजी के चक्कर में दोस्त ने दोस्त को उतारा मौत के घाट

जबलपुर : ग्वारीघाट गुरुद्वारा के पास नमामि देवी नर्मदा प्रोजेक्ट क्षेत्र में हुई हत्या की वारदात से क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। नमामी देवी प्रोजेक्ट में कार्यरत तीन दोस्तों के बीच लड़कीबाजी को लेकर मंगलवार को दोपहर दो बजे के लगभग झगड़ा हो गया, जिसमें दो ने मिलकर रानू गौंड की फावड़ा मार-मार कर हत्या कर दी, इसके बाद लाश को गढ्डे में डालकर दफना दिया। घटना की खबर मिलते ही पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए और दोनों को हिरासत में लेकर शव को निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल अस्पताल पहुंचाया। इस घटना के बाद ग्वारीघाट क्षेत्र में सनसनी व्याप्त रही। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्वारीघाट गुरूद्वारे के पास नमामी देवी नर्मदा प्रोजेक्ट का काम चल रहा है, जहां पर रानू गौंड़ उम्र 22 वर्ष निवासी स्लीमनाबाद जिला कटनी, रतनसिंह उम्र 19 वर्ष चौकीदारी का काम करते रहे वहीं शालू उर्फ आनंद यादव उम्र 19 वर्ष निवासी ग्राम मंगेली सेंट्रिग का काम करता है. काम के दौरान तीनों के बीच दोस्ती हो गई, साथ में ही खाना खाते रहे, लेकिन बीते मंगलवार को दोपहर दो बजे के लगभग तीनों ने साथ में खाना खा रहे थे, इस दौरान तीनों ने लड़की लाने को लेकर बातचीत करने लगे।

बातचीत के दौरान ही तीनों के बीच विवाद हो गया, विवाद इतना बढ़ा कि एक दूसरे के साथ मारपीट की जाने लगी, मारपीट यहां तक बढ़ गई कि शानू यादव व रतनसिंह ने पास से ही फावड़ा उठाकर रानू गौंड़ पर दनादन वार किए, जिससे रानू के सिर, चेहरे, सीने व पेट में गंभीर चोटें आने के कारण मौके ही मौत हो गई. रानू की मौत होने के बाद शानू व रतन सिंह ने रानू की लाश उठाकर कुछ दूर पर गढ्डा में डालकर दफना दी, यहां तक कि उस जगह को साफ कर दिया ताकि किसी को कुछ पता न चल सके। तीनों के बीच हो रहे झगड़े को कुछ लोगों ने देखा तो पुलिस को सूचना दे दी, शाम 6 बजे के लगभग खबर मिलते ही पुलिस अधिकारी पहुंच गए, जिन्होने शानू व रतनसिंह को घायल हालत में देखा तो तीसरे साथी के बारे में पूछताछ की, पहले तो वे पुलिस अधिकारियों को बातों में उलझाने की कोशिश करते रहे, लेकिन पुलिस द्वारा की गई सख्ती के बाद दोनों ने हकीकत बता दी। पुलिस अधिकारियों ने स्थानीय लोगों की मदद से लाश को बाहर निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल अस्पताल पहुंचाया।


Share it
Top