राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान 10 मार्च को, प्रभावी ढंग से सफल बनाने हेतु 139 गाडिय़ां, 50 मोबाईल टीम, 136 सुपरवाइंजरों व अधिकारियों की डियुटी

राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान 10 मार्च को, प्रभावी ढंग से सफल बनाने हेतु 139 गाडिय़ां, 50 मोबाईल टीम, 136 सुपरवाइंजरों व अधिकारियों की डियुटी

एस पी भाटिया/विशेष संवाददाता,

अम्बाला : राष्ट्रीय पल्स पोलियो अभियान (10 मार्च 2019 रविवार) को सफल बनाने हेतु सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इस बारे में जानकारी देते हुए उपायुक्त शरणदीप कौर ने बताया कि इस अभियान को शत प्रतिशत सफल बनाने के लिए जिला अम्बाला में 871 बूथों पर 2624 स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, आंगनवाडी वर्कर, आशा सामाजिक कार्यकर्ता, नेहरू युवा कार्यकर्ता तथा विभिन्न गैर सरकारी संस्थाओं के सदस्यों, पंचायती राज, व जिला प्रशासंन के सहयोग से 0-5 वर्ष के 129338 बच्चों को पोलियो से बचाव की अतिरिक्त खुराक पिलाने का लक्ष्य रखा गया है । जिला के सभी ईंट , स्टोन क्रशर, पोल्टरी फार्म, झुग्गी झोपडियां, निर्माणाधीन भवन, झुग्गियों मे रह रहे कामगार मजदूरों, औद्योगिक क्षेत्र व घुमन्तु कबीलो के बच्चों को हाई रिस्क एरिया घोषित कर विशेष टीमें लगाई गई, ताकि कोई भी बच्चा पोलियो खुराक से वंचित न रहे। जिला में पोलियो अभियान को प्रभावी ढंग से सफल बनाने हेतु 139 गाडिय़ां, 50 मोबाईल टीम, 136 सुपरवाइंजरों व कार्यक्रम अधिकारियों की डियुटी लगाई गई है।

इस अभियान के प्रचार-प्रसार के लिए चिकित्सा अधिकारियों/सुपरवाईजरों, साक्षर महिला समुह द्वारा स्वास्थ्य केन्द्रों, आंगनवाडी केन्द्रों व अन्य स्थानो पर बैठके, रैलियां आयोजित कर लोगो को पल्स पोलियो अभियान बारे सहयोग देने हेतु गतिविधियां चलाई गई है। जिला के सभी स्वास्थ्य संस्थानो/केन्द्रों, आंगनवाडी केन्द्रो, रेलवे स्टेशन ,बस स्टैड आदि उचित स्थानों पर पल्स पोलियो अभियान की जागरूकता हेतू बैनर लगाये गएं हैं। अधिक से अधिक जिला वासियों को जागरूक करने हेतु प्रचार प्रसार गतिविधियों में शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में 31 रिक्शा द्वारा माईकिंग भी की गई है, सभी धार्मिक स्थानों पर माईकिंग द्वारा पूरे शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में पल्स पोलियो अभियान की सफलता हेतू प्रचार किया जा रहा है।

उपायुक्त ने सभी जिला वासियों से अपील की है कि प्रत्येक व्यक्ति अपने आस पास के सभी 0-5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो की अतिरिक्त खुराक पिलवाकर इस अभियान को शत प्रतिशत सफल बनाने मे अपना पूर्ण सहयोग दें, ताकि पोलियो रोग वापिस न आ सके। चाहे बच्चा बीमार हो तो भी या पहले से खुराक पी रखी हो तो भी अभियान के दौरान सभी 0-5 वर्ष तक के सभी बच्चों को पोलियो की अतिरिक्त खुराक अवश्य पिलवाएं।


Share it
Top