नीतीश कुमार की 'गौरव यात्रा' 5 दिसंबर से

नीतीश कुमार की गौरव यात्रा 5 दिसंबर से

संदीप ठाकुर

नई दिल्ली। चुनावी माैसम आ गया है। नेता अपने अपने आलीशान सरकारी काेठियाें से निकल कर सड़क पर आ गए हैं,जनता का दुख दर्द समझने नहीं बल्कि अपना पीआर करने। काेई संकल्प यात्रा निकाल रहा है ताे काेई

सद्भावना रैली। इसी क्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी यात्रा पर निकलने वाले है। सूत्राें की यदि मानें तो मुख्यमंत्री 5 दिसंबर से पश्चिम चंपारण से यात्रा शुरू कर सकते हैं। तैयारियां जाेराें पर है।
गौनाहा के जमुनिया में हैलीपैड का निर्माण कराया जा रहा है। पिछले साल नीतीश ने 8 दिसंबर को बगहा से यात्रा शुरू की थी।

हालांकि, अबकी बार प्रस्तावित इस यात्रा के नाम की फिलहाल अधिकारिक घोषणा नहीं हुई है

लेकिन, जदयू नेताओं की माने तो इसका नाम गौरव यात्रा रखा गया है। इधर, जिला प्रशासन द्वारा जिले के विभिन्न स्थानों पर की जा रही तैयारी से कयास लगाये जा रहे है कि सीएम नीतीश कुमार की पश्चिम चंपारण जिले में
दो दिवसीय यात्रा हो सकती है। इस दौरान बगहा के कदमहवा, गौनाहा के जमुनिया व ठोरी में तैयारी की जा रही है। कदमहवा में विकास शिविर का भी आयोजन कर लोगो की समस्याओं का आवेदन लिया गया है। इस दौरान अन्य विभागों
की ओर से भी शिविर लगाकर जाति, निवास, दिव्यांग, दाखिल खारिज समेत अन्य योजनाओं के लिए लाभ पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो यहां मुख्यमंत्री ठोरी में आर्ट गैलरी का उद्घाटन
एवं अवलोकन करने के साथ ही धमौरा में आरटीपीएस काउंटर का उदघाटन कर सकते है।

जिला प्रशासन जिले में शिलान्यास एवं उदघाटन कराये जानेवाले योजनाओं की समेकित सूची बनाने में लगा हुआ है। प्रखंड के जमुनिया व भिखनाठोरी मे मुख्यमंत्री के संभावित कार्यक्रम को

लेकर रविवार को डीडीसी रविंद्र नाथ सिंह, नरकटियागंज एसडीओ चंदन चौहान, डीएसपी मो. निसार समेत अन्य अधिकारियों ने कार्यक्रम स्थल का जायजा लिया। 5 दिसंबर को प्रखंड के जमुनिया पंचायत के रघुवीर परियोजना उच्च
विद्यालय के प्रांगण में 11 बजे दिन मे मुख्यमंत्री पहुंचेंगे। यहां वे जनसभा को संबोधित करेंगे। इससे पहले सुभद्रा माई स्थान भी जायेंगे । धमौरा पहुंच कर पंचायत भवन का उद्घाटन करेंगे।

इसके साथ ही भिखनाठोरी में स्थानीय लोगों से रूबरू होंगे. बता दें कि भिखनाठोरी मे बसे सैकड़ों परिवार बीते साल 12 अगस्त के बाढ़ के कटाव से बेघर हो गये थे. उनकी समस्या के साथ-साथ पचासों वर्ष से भिखनाठोरी में बसे ग्रामीणों को मूलभूत

समस्याओं के साथ-साथ वासगीत का पर्चा समेत तमाम समस्याओं पर भिखनाठोरी के ग्रामीणों से चर्चा करेंगे साथ ही साथ नल जल इत्यादि योजनाओं की समीक्षा करेंगे। मुख्यमंत्री का यह दाैरा बेहद अहम् माना जा रहा है।

Share it
Top