SUNSTAR TV

मनोहर तो 75 ले आयेंगे, क्या आप अपनी 5 भी बचा पाएंगे सुरजेवाला जी? भाजपा ने 15 सीटें विपक्ष के लिए छोड़ी, 75 पर करेगी कब्जा : धनखड़ हरियाणा भाजपा के मुखपत्र “भाजपा की बात” की वेबसाइट लाँच, पाठकों को सहज उपलब्ध होगी पत्रिका अंबाला : हॉलीवुड के बजट से कम खर्चे पर तैयार हुआ चंद्रयान : अनिल विज Karnataka Floor Test : कुमारस्वामी ने विश्वास मत प्रस्ताव किया पेश, वोटिंग शुरू अब शराब पीकर चलाई गाड़ी तो लगेगा इतने हजार का जुर्माना UOK Results 2019: बीए पार्ट 2 का रिजल्‍ट घोषित, uok.ac.in पर करें चेक किसान विकास पत्र में निवेश अब 9 साल 5 महीने में दोगुना: वित्त मंत्रालय फ्लोर टेस्ट से पहले कुमारस्वामी ने कहा मैं पद छोड़ने को तैयार अब पानीपत में सामने आया लव जिहाद का मामला, लोग सड़काें पर उतरे तो जागी पुलिस छत्तीसगढ की पहली बायोपिक फिल्म 'मंदराजी' 26 जुलाई को होगी रिलीज़ फ्लोर टेस्ट से पहले बैंगलुरु में 48 घंटे के लिए धारा 144 लागू लगातार चौथे दिन ए.बी.वी.पी का धरना प्रदर्शन जारी, कुलपति का पुतला फूँका मांगों को लेकर गरजे कर्मचारी, लघु सचिवालय पर किया प्रदर्शन भार्गव परिवार के लिए भगवान है मुख्यमंत्री ‘मनोहरलाल’ महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया पहुंची कांग्रेस भवन, कार्यकर्ताओं और आम जनता से हुई रूबरू फसल बीमा योजना में किसानों की बढी रूचि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना : जांजगीर-चांपा कलेक्टर ने हरी झण्डी दिखाकर प्रचार रथ को किया रवाना जन चौपाल : मुख्यमंत्री निवास में भेंट-मुलाकात का आयोजन 24 जुलाई को छत्तीसगढ़ संजीवनी 108/102 एम्बुलेंस कर्मचारियो ने सरकार के वादे याद दिलाने किया वादा रैली का आयोजन

सावन सोमवार के ये 12 रहस्य

Monika Wagh 06-07-2019 16:31:55



1.श्रावण शब्द श्रवण से बना है जिसका अर्थ है सुनना। अर्थात सुनकर धर्म को समझना। इस माह में सत्संग का महत्व है। इस माह में पतझड़ से मुरझाई हुई प्रकृति पुनर्जन्म लेती है।

2.श्रावण माह में भगवान शिव, मां पार्वती और श्रीकृष्ण की पूजा का बहुत महत्व होता है। व्रत रखकर पूजा करने से सभी मनोकामना पूर्ण होती है।

3.श्रावण माह से व्रत और साधना के चार माह अर्थात चातुर्मास प्रारंभ होते हैं। ये 4 माह हैं- श्रावण, भाद्रपद, आश्‍विन और कार्तिक।

4.पौराणिक कथा के अनुसार देवी सती ने अपने दूसरे जन्म में शिव को प्राप्त करने हेतु युवावस्था में श्रावण महीने में निराहार रहकर कठोर व्रत किया और उन्हें प्रसन्न कर विवाह किया था। इसलिए यह माह विशेष है।

7.इस माह में सोमवार, गणेश चतुर्थी, मंगला गौरी व्रत, मौना पंचमी, कामिका एकादशी, ऋषि पंचमी, 12वीं को हिंडोला व्रत, हरियाली अमावस्या, विनायक चतुर्थी, नागपंचमी, पुत्रदा एकादशी, त्रयोदशी, वरा लक्ष्मी व्रत, नराली पूर्णिमा, श्रावणी पूर्णिमा, शिव चतुर्दशी और रक्षा बंधन आदि पवित्र दिन हैं।

8.श्रावण माह में श्रावणी उपाकर्म करने का महत्व भी है। यह कर्म किसी आश्रम, जंगल या नदी के किनारे किसी संन्यासी की तरह रहकर संपूर्ण किया जाता है।

9.श्रावण माह में दूध, शकर, दही, तेल, बैंगन, पत्तेदार सब्जियां, नमकीन या मसालेदार भोजन, मिठाई, सुपारी, मांस और मदिरा का सेवन नहीं किया जाता। इस दौरान बाल और नाखुन नहीं काटना चाहिए।

10.श्रावण माह में यात्रा, सहवास, वार्ता, भोजन आदि त्यागकर नियमपूर्वक व्रत रखना चाहिए तो ही उसका फल मिलता है। दिन में फलाहार लेना और रात को सिर्फ पानी पीना चाहिए।

11.जिसकी शारीरिक स्थिति ठीक न हो व्रत करने से उत्तेजना बढ़े और व्रत रखने पर व्रत भंग होने की संभावना हो उसे व्रत नहीं करना चाहिए। रजस्वरा स्त्री, जरूरी यात्रा या युद्ध के हालात में भी व्रत नहीं रखना चाहिए।

12.इसीलिए व्रत रखने के तीन कारण है पहला दैहिक, दूसरा मानसिक और तीसरा आत्मिक रूप से शुद्ध होकर पुर्नजीवन प्राप्त करना और आध्यात्मिक रूप से मजबूत होगा। इससे काया निरोगी हो जाती है।

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :