SUNSTAR TV

प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन पर किसानों को दिलाई जल संचय और आर्गेनिक खेती की शपथ भाजपा के प्रतिनिधि मंडल दंतेवाड़ा उपचुनाव में गंभीर आरोपो को लेकर पहुंचे निर्वाचन आयोग पीजीआई में मरीजों से मिलकर मंत्री ने मनाया पीएम मोदी का जन्मदिन उत्तराखंड के सबसे बड़े घोटालों में से एक छात्रवृत्ति घोटाले में गीता राम नौटियाल की गिरफ़्तारी से रोक हटी हरदोई की घटना पर कांग्रेस ने PM से किया सवाल, कहा- युवक को जिंदा जलाने पर चुप क्‍यों हैं आप? सिद्धार्थनगर: पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय को मिला मकान खाली करने का नोटिस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेशों में भी भारतियों को दी राजनीतिक ताकत : जेपी नड्डा गवर्नर अनुसुइया उइके ने गृहमंत्री अमित शाह से की मुलाकात, मिली ये बड़ी जिम्मेदारी बिना ‘हेलमेट’ UP रोडवेज की बस चला रहा था ड्राइवर, कटा चालान! हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की तबीयत खराब, IGMC शिमला में भर्ती किए गए अयोध्या मामले में बड़ा अपडेट 17 नवम्बर से पहले राम मंदिर बाबरी मस्जिद केस में आ सकता है फैसला मतदाता सूची शिविर की समय-सीमा बढ़ाने विधायक विकास उपाध्याय ने सौंपा ज्ञापन अनिल विज ने कुमारी शैलजा को बताया 'गद्दार', तो हुड्डा को दी 'पलटू राम' की संज्ञा C. R. पार्क में लड़कियो को देख मास्टरबेट करता था लड़का, अब 11 दिन बाद पुलिस ने पकड़ा हरियाणा सरकार ने ठहराया कंप्यूटर शिक्षकों के आंदोलन को अवैधानिक एयरपोर्ट से हिसार में स्थापित होंगे विकास के नए आयाम: डा. कमल गुप्ता मैं भी अपनी छाती पर लगाउंगा अपने दादा और पिता को फौज में मिले मैडल : राव इंद्रजीत सिंह मनोहर सरकार ने 1962 के भारत-पाक युद्ध तक के शहीदों के आश्रितों को दी नौकरी : राव इंद्रजीत शुरुआती कारोबार में आई गिरावट सांची दूध फिर होगा महंगा, दाम बढ़ाने का भेजा प्रस्ताव

वे दस कारण जिससे आपको आयकर विभाग का मिल सकता है नोटिस

Monika Wagh 28-07-2019 13:22:04



नई दिल्ली। आयकर विभाग से नोटिस आना किसी के लिए भी परेशानी की बात हो सकती है। आपके पास कई कारणों से आयकर विभाग का नोटिस आ सकता है। इन कारणों में समय पर आयकर रिटर्न ना दाखिल करना, कैलकुलेशन की गलतियां और अपनी वास्तविक आय नहीं दिखाना सहित कई गलतियां शामिल हो सकती है। आज हम आपको ऐसे ही 10 वे बड़े कारण बताने जा रहे हैं जिनसे आपको पास आयकर विभाग का नोटिस आ सकता है।

1. देरी से आयकर रिटर्न फाइन करना

अगर आप अंतिम तिथि तक आयकर रिटर्न दाखिल नहीं करते हैं, तो आपको आयकर विभाग की ओर से रिमाइंडर नोटिस मिल सकता है। यह नोटिस आपको उस असेसमेंट इयर की समाप्ति से पहले मिलेगा जिसमें आपने रिटर्न नहीं भरा है। अगर आप निर्धारित तिथि से पहले अपना रिटर्न फाइल नहीं करते हैं, तो आपको विलंब शुल्क भी देना होगा।

इस तरह के नोटिस से बचने के लिए आपको हर असेसमेंट इयर की आईटीआर फाइल करने की अंतिम तिथि तक अपना आईटीआर दाखिल कर देना चाहिए।

2. इक्विटी से प्राप्त एलटीसीजी की गलत रिपोर्ट देना

आपको किसी भी सू‍चीबद्ध शेयर या इक्विटी से जुड़े म्‍यूचुअल फंडों से हुए लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गेन की जानकारी इनकम टैक्‍स रिटर्न दाखिल करते समय देनी जरूरी है। आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आपने सही कैलकुलेशन की है और एलटीसीजी की जानकारी का सही उल्लेख किया है। किसी भी सामान्य सी गलती पर आपके पास नोटिस भेजा सा जकता है और उस नोटिस में आयकर विभाग आपसे बकाया टैक्स चुकाने के लिए कह सकता है।

इस तरह के नोटिस से बचने के लिए आपको अपने ब्रोकर या म्यूचुअल फंड हाउस से अपने पूंजीगत लाभ का स्टेटमेंट लेना चाहिए और इसकी सही जानकारी को फॉर्म में दर्ज करनी चाहिए।

3. जब टीडीएस का 26एएस फॉर्म के साथ मिलान नहीं हो

आईटीआर फाइल करते समय टीडीएस का फॉर्म 26 एएस और फॉर्म 16 या 16ए के साथ मिलान होना जरूरी होता है। हालांकि, इसमें कई कारणों से कुछ जानकारी का मिलान नहीं हो पाता है। टीडीएस का मिलान नहीं होने पर आपके पास आयकर अधिनियम की धारा 143(1) के तहत नोटिस आ सकता है।

इस तरह के नोटिस से बचने के लिए आईटीआर फाइल करते समय एक बार 26एएस फॉर्म में दर्ज टीडीएस को जांच लें और सुनिश्चित करें कि टीडीएस की जानकारी सही दर्ज की गई हो।

4. अपनी वास्तविक आय नहीं बताने पर

अगर आप आईटीआर दाखिल करते समय अपनी कोई आय उसमें नहीं दिखाते हो और वह आयकर विभाग के पकड़ में आ जाए, तो आपके पास नोटिस पहुंच सकता है। आय का विवरण नहीं देने के कारण आयकर अधिनियम की धारा 139 (9) या 143 (1) के तहत आपके पास कर विभाग का नोटिस पहुंच सकता है।

इस तरह के नोटिस से बचने के लिए आईटीआर फाइल करने से पहले अपने सभी आय स्रोतों के सभी वित्तीय स्टेटमेंट्स और सूचियों को इकट्ठा कर लें और उसके बाद आईटीआर फाइल करें।

5. जीवनसाथी के नाम पर किये गए निवेश की घोषणा नहीं करने पर

अगर आप अपने आयकर रिटर्न में अपने जीवनसाथी के नाम पर किये गए निवेश की जानकारी नहीं देते हैं, तो आपके पास आयकर विभाग का नोटिस पहुंच सकता है। ऐसी स्थिति में इस निवेश से कुछ आय कर योग्य हो सकती है और आपको अपना आयकर रिटर्न दाखिल करते वक्त इसकी जानकारी देनी ही होगी। जानकारी नहीं देने की स्थिति में आपके पास आयकर अधिनियम की धारा 143(2) के तहत टैक्स विभाग का नोटिस आ सकता है।

इस तरह के नोटिस से बचने के लिए आईटीआर फाइल करते समय जीवनसाथी के नाम पर किये गए निवेश से होने वाली कर योग्य आय की जानकारी अवश्य दें।

6. दोषपूर्ण रिटर्न दाखिल करने पर

अगर आप सही फॉर्म में इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं करते हो, तो आपके पास आयकर विभाग का डिफेक्टिव रिटर्न नोटिस आ सकता है। आपको यह नोटिस आयकर अधिनियम की धारा 139(9) के तहत मिलेगा। नोटिस मिलने के बाद आपको 15 दिन के अंदर इसका जवाब देना होता है।

नोटिस से बचने के लिए जांच लें कि जिस फॉर्म में आप अपना रिटर्न दाखिल कर रहे हैं, क्या वह सही है।

7. अगर आपने बड़ी राशि का लेन-देन किया है

अगर आपने किसी बड़ी राशि का लेन-देन किया है, तो आपके पास आयकर विभाग का नोटिस आ सकता है। आयकर विभाग हर वित्तीय वर्ष में उन करदाताओं को चिन्हित करता है जो बड़ी राशि का लेन-देन तो करते हैं, लेकिन इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरते। आयकर विभाग आपसे बड़ी राशि के लेनदेन में फंड के स्रोत की जानकारी मांग सकता है।

इस मामले में करदाता को आय के स्रोत की जानकारी देते हुए संतोषजनक जवाब विभाग को भेजना होता है। अगर कर विभाग आपके जवाब से संतुष्ट होता है तो आपका केस बंद कर दिया जाएगा।

8. अगर आपके रिटर्न को जांच के लिए भेजा गया है

आप कभी भी कर अधिकारियों की जांच के दायरे में आ सकते हैं। कर अनुपालन को बढ़ाने के लिए आयकर विभाग रेंडमली रिटर्न की जांच कर सकता है। अगर आपको आयकर विभाग की ओर से आयकर अधिनियम की धारा 143(2) के तहत नोटिस मिलता है, तो इसका मतलब है कि आपके द्वारा फाइल किया गया रिटर्न जांच अधिकारियों द्वारा जांचा जा रहा है।

इस नोटिस से बचने के लिए आयकर रिटर्न में अपनी पूरी आय का ब्योरा दें और बकाया टैक्स का पूरा भुगतान करें।

9. टैक्स बकाया होने के बावजूद रिफंड के लिए क्लेम करने पर

अगर आपने अपने टैक्स भुगतान पर रिफंड के लिए क्लेम किया है, किंतु आप पर पहले से ही टैक्स बकाया है, तो जांच अधिकारी आपको नोटिस भेज सकते हैं। जांच अधिकारी आपसे पिछले साल के बकाया टैक्स को रिफंड अमाउंट में एडजस्ट करने के लिए कह सकता है। इस मामले में आपको आयकर अधिनियम की धारा 245 के तहत नोटिस मिल सकता है।

इस तरह के नोटिस से बचने के लिए हमेशा रिफंड क्लेम करने से पहले ध्यान रखें कि आपके प्रत्येक असेसमेंट इयर का बकाया टैक्स क्लियर हो गया हो।

10. पिछले वर्षों में टैक्स बकाया होने पर

आयकर अधिनियम आयकर विभाग को यह अधिकार देता है कि वह करतादा के पिछले सालों में भरे गए आयकर रिटर्न का भी पुनर्मूल्यांकन कर सकता है। ऐसे में आयकर अधिनियम की धारा 147 के तहत कर विभाग आपको नोटिस जारी कर सकता है।

इस तरह के नोटिस से बचने के लिए आपको अपना आईटीआर पूरी निष्ठा के साथ समय पर भरना चाहिए।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :