SUNSTAR TV

प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन पर किसानों को दिलाई जल संचय और आर्गेनिक खेती की शपथ भाजपा के प्रतिनिधि मंडल दंतेवाड़ा उपचुनाव में गंभीर आरोपो को लेकर पहुंचे निर्वाचन आयोग पीजीआई में मरीजों से मिलकर मंत्री ने मनाया पीएम मोदी का जन्मदिन उत्तराखंड के सबसे बड़े घोटालों में से एक छात्रवृत्ति घोटाले में गीता राम नौटियाल की गिरफ़्तारी से रोक हटी हरदोई की घटना पर कांग्रेस ने PM से किया सवाल, कहा- युवक को जिंदा जलाने पर चुप क्‍यों हैं आप? सिद्धार्थनगर: पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय को मिला मकान खाली करने का नोटिस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेशों में भी भारतियों को दी राजनीतिक ताकत : जेपी नड्डा गवर्नर अनुसुइया उइके ने गृहमंत्री अमित शाह से की मुलाकात, मिली ये बड़ी जिम्मेदारी बिना ‘हेलमेट’ UP रोडवेज की बस चला रहा था ड्राइवर, कटा चालान! हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की तबीयत खराब, IGMC शिमला में भर्ती किए गए अयोध्या मामले में बड़ा अपडेट 17 नवम्बर से पहले राम मंदिर बाबरी मस्जिद केस में आ सकता है फैसला मतदाता सूची शिविर की समय-सीमा बढ़ाने विधायक विकास उपाध्याय ने सौंपा ज्ञापन अनिल विज ने कुमारी शैलजा को बताया 'गद्दार', तो हुड्डा को दी 'पलटू राम' की संज्ञा C. R. पार्क में लड़कियो को देख मास्टरबेट करता था लड़का, अब 11 दिन बाद पुलिस ने पकड़ा हरियाणा सरकार ने ठहराया कंप्यूटर शिक्षकों के आंदोलन को अवैधानिक एयरपोर्ट से हिसार में स्थापित होंगे विकास के नए आयाम: डा. कमल गुप्ता मैं भी अपनी छाती पर लगाउंगा अपने दादा और पिता को फौज में मिले मैडल : राव इंद्रजीत सिंह मनोहर सरकार ने 1962 के भारत-पाक युद्ध तक के शहीदों के आश्रितों को दी नौकरी : राव इंद्रजीत शुरुआती कारोबार में आई गिरावट सांची दूध फिर होगा महंगा, दाम बढ़ाने का भेजा प्रस्ताव

सिद्धार्थ की कंपनी ‘कैफे कॉफी डे’ पर है 5200 करोड़ रुपए का कर्ज

कॉफी डे एंटरप्राइजेज की प्रवर्तक कंपनियों देवदर्शनी इंफो टेक्नोलॉजीस, कॉफी डे कन्सॉलिडेशन, गोनीबेडु कॉफी एस्टेट और सिवन सिक्योरिटीज ने भी समय-समय पर भारी कर्ज लिया था।

Duleshwari Sahu 02-08-2019 12:47:24



नई दिल्ली।  कैफे कॉफी डे (सीसीडी) चलाने वाले दिग्गज कारोबारी वी. जी सिद्धार्थ की कंपनी ' कॉफी डे एंटरप्राइजेज लिमिटेड' की देनदारी 2018-19 में दोगुनी होकर 5,200 करोड़ रुपये हो गई। इसके अलावा उनकी गैर - सूचीबद्ध रीयल्टी समेत अन्य इकाइयों पर भी कर्ज है। शेयर बाजार और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय को दी गई सूचना से इसकी जानकारी मिली है। 

सिद्धार्थ ने शेयरों को गिरवी रखकर पूंजी जुटाने की कोशिश की थी। 

सीसीडी के संस्थापक सिद्धार्थ सोमवार शाम को लापता हो गए थे और 36 घंटे की कड़ी खोजबीन के बाद बुधवार को उनका शव बरामद हुआ। मंत्रालय को दी गई सूचनाओं के अनुसार , उन्होंने सूचीबद्ध और चार गैर - सूचीबद्ध कंपनियों में अपने शेयरों को गिरवी रखकर पूंजी जुटाने की कोशिश की ताकि वह व्यक्तिगत और कंपनी का कर्ज चुका सके। उनके कुछ कर्ज की अदायगी इसी महीने होनी थी। 

सिद्धार्थ और उनके परिवार ने कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी के 75 प्रतिशत से ज्यादा शेयरों को गिरवी रखा हुआ है। एक साल पहले यह आंकड़ा 60 प्रतिशत था। सिद्धार्थ की कई इकाइयां हैं ,जिन्होंने बैंकों और वित्तीय संस्थानों समेत अन्य संगठनों से पैसा उधार लिया था। सिद्धार्थ ने सीसीडी के निदेशक मंडल को लिखे पत्र में कहा है।  कि उन पर एक निजी इक्विटी साझेदार का दबाव है , जो मुझे शेयर वापस खरीदने के लिए मजबूर कर रहा है। मैंने 6 महीने पहले एक दोस्त से बड़ी रकम उधार लेकर इस लेनदेन का कुछ हिस्सा पूरा किया है। 

सिद्धार्थ के पत्र में आयकर विभाग के अधिकारी द्वारा प्रताड़ित किए जाने का जिक्र। 

पत्र में आयकर विभाग के एक अधिकारी द्वारा " प्रताड़ित " किए जाने का भी जिक्र है। जिसने माइंडट्री में उनके शेयर कुर्क किए थे। शेयर बाजार को दी गई जानकारी के मुताबिक , बीएसई में सूचीबद्ध कॉफी डे एंटरप्राइजेज लिमिटेड (सीडीईएल) की 31 मार्च 2019 तक कुल देनदारी 5,251 करोड़ रुपये है। एक साल पहले की समान अवधि में यह आंकड़ा 2,457.3 करोड़ रुपये था। 

कॉफी डे एंटरप्राइजेज की प्रवर्तक कंपनियों देवदर्शनी इंफो टेक्नोलॉजीस, कॉफी डे कन्सॉलिडेशन, गोनीबेडु कॉफी एस्टेट और सिवन सिक्योरिटीज ने भी समय-समय पर भारी कर्ज लिया था। सिद्धार्थ की कंपनियों ने टाटा कैपिटल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड और क्लिक्स कैपिटल सर्विसेज (पूर्व में जीई मनी फाइनेंस सर्विसेज) के साथ शापोरजी पल्लोनजी फाइनेंस (एसपीएफ) से भी कर्ज लिया था। अप्रैल 2018 की ऐसी ही एक नियामकीय सूचना में कहा गया कि एसपीएफ ने तांगलिन डेवलपमेंट्स लिमिटेड को 12 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करने की सैद्धांतिक मंजूरी दी थी। यह कर्ज प्रतिभूति के बदले दिया जाना था। 

सिद्धार्थ की कंपनी में कुल हिस्सेदारी थी 53.93 प्रतिशत। 

सिद्धार्थ की गैर-सूचीबद्ध कंपनियों द्वारा लिए गए कर्ज की सटीक जानकारी तुरंत हासिल नहीं हो सकी है।  मंत्रालय को दी सूचना के मुताबिक, मार्च 2018 के अंत में कॉफी डे कन्सॉलिडेशन की अल्प अवधि कर्ज और मौजूदा देनदारी 36.53 करोड़ रुपये थी। कॉफी डे एंटरप्राइजेज में जून के अंत में सिद्धार्थ की 32.7 प्रतिशत, उनकी पत्नी मालविका हेगड़े की 4.05 प्रतिशत और प्रवर्तक समूह की चार अन्य कंपनियों की 17 प्रतिशत से थोड़ी ज्यादा हिस्सेदारी है। इस तरह से उनकी कंपनी में कुल हिस्सेदारी 53.93 प्रतिशत बैठती है।  प्रवर्तक इकाइयों ने कंपनी में अपनी कुल हिस्सेदारी का करीब-करीब 75.7 प्रतिशत हिस्सेदारी (यानी 8.62 करोड़ शेयर) गिरवी रखे हुये थे। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :