SUNSTAR TV

मनोहर तो 75 ले आयेंगे, क्या आप अपनी 5 भी बचा पाएंगे सुरजेवाला जी? भाजपा ने 15 सीटें विपक्ष के लिए छोड़ी, 75 पर करेगी कब्जा : धनखड़ हरियाणा भाजपा के मुखपत्र “भाजपा की बात” की वेबसाइट लाँच, पाठकों को सहज उपलब्ध होगी पत्रिका अंबाला : हॉलीवुड के बजट से कम खर्चे पर तैयार हुआ चंद्रयान : अनिल विज Karnataka Floor Test : कुमारस्वामी ने विश्वास मत प्रस्ताव किया पेश, वोटिंग शुरू अब शराब पीकर चलाई गाड़ी तो लगेगा इतने हजार का जुर्माना UOK Results 2019: बीए पार्ट 2 का रिजल्‍ट घोषित, uok.ac.in पर करें चेक किसान विकास पत्र में निवेश अब 9 साल 5 महीने में दोगुना: वित्त मंत्रालय फ्लोर टेस्ट से पहले कुमारस्वामी ने कहा मैं पद छोड़ने को तैयार अब पानीपत में सामने आया लव जिहाद का मामला, लोग सड़काें पर उतरे तो जागी पुलिस छत्तीसगढ की पहली बायोपिक फिल्म 'मंदराजी' 26 जुलाई को होगी रिलीज़ फ्लोर टेस्ट से पहले बैंगलुरु में 48 घंटे के लिए धारा 144 लागू लगातार चौथे दिन ए.बी.वी.पी का धरना प्रदर्शन जारी, कुलपति का पुतला फूँका मांगों को लेकर गरजे कर्मचारी, लघु सचिवालय पर किया प्रदर्शन भार्गव परिवार के लिए भगवान है मुख्यमंत्री ‘मनोहरलाल’ महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया पहुंची कांग्रेस भवन, कार्यकर्ताओं और आम जनता से हुई रूबरू फसल बीमा योजना में किसानों की बढी रूचि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना : जांजगीर-चांपा कलेक्टर ने हरी झण्डी दिखाकर प्रचार रथ को किया रवाना जन चौपाल : मुख्यमंत्री निवास में भेंट-मुलाकात का आयोजन 24 जुलाई को छत्तीसगढ़ संजीवनी 108/102 एम्बुलेंस कर्मचारियो ने सरकार के वादे याद दिलाने किया वादा रैली का आयोजन

रेलवे: प्राइवेट कंपनी के सहयोग से 2 ट्रेन चलाएगी भारतीय रेलवे

Monika Wagh 12-07-2019 13:10:49



नई दिल्ली: रेलवे बोर्ड के शीर्ष अधिकारियों ने दो ट्रेनें निजी आपरेटरों को पेशकश करने के अपने 100 दिवसीय एजेंडे के तौर तरीकों को अंतिम रूप से देने के लिए गुरुवार को निवेशकों, डेवेलपर्स और अन्य हितधारकों के साथ मुलाकात की। यह जानकारी सूत्रों ने दी।

सूत्रों ने बताया कि बैठक में मौजूद रहने वालों में नीति आयोग, आर्थिक मामलों के विभाग, वाणिज्य मंत्रालय के तहत आने वाले लॉजिस्टिक विभाग के अधिकारियों के अलावा रोलिंग स्टॉक निर्माता, एयरलाइन, क्रूज लाइन के अधिकारी और ट्रैवेल एजेंट भी शामिल थे। 

सूत्रों ने संकेत दिया कि निजी आपरेटर को सौंपे जाने वाली इन दो ट्रेनों में से एक ट्रेन की पहचान नयी दिल्ली...लखनऊ तेजस एक्सप्रेस के तौर पर पहले ही कर ली गई है। रेलवे को अभी दूसरी को अंतिम रूप देना बाकी है।

100 दिन के एजेंडा और बजट में किये गए प्रस्तावों के अनुरूप रेलवे को तेज विकास एवं सम्पर्क को बढ़ावा देने के लिए यात्री माल ढुलाई सेवाएं प्रदान करने के लिए सार्वजनिक...निजी साझेदारी के लिए प्रोत्साहित किया गया है। इसको देखते हुए रेलवे निजी साझेदार खोजने के लिए सक्रिय है।

बैठक में बॉम्बार्डियर, रेलवे यान निर्माता सीएएफ, प्रोपल्शन इक्विप्मेंट आपूर्तिकर्ता मेधा और विस्तारा जैसी एयरलाइन के प्रतिनिधि मौजूद थे। बैठक में शामिल रहे एक अधिकारी ने कहा, ‘हमें इस बारे में सुझाव देने के लिए आमंत्रित किया गया कि रेलवे में एक निजी साझेदारी कैसे शुरू की जाए। हमने तौर तरीकों और इस प्रक्रिया में शामिल नियमों पर चर्चा की।'

सूत्रों ने बताया कि बैठक में रेलवे बोर्ड अध्यक्ष वी के यादव और सदस्य ट्रैफिक सुनील माथुर मौजूद थे। नेशनल इनवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड लिमिटेड, आई स्क्वार्ड इंडिया एडवाइजर्स प्राइवेट लिमिटेड, टाटा रियल्टी इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड जैसे डेवलपर के प्रतिनिधि भी रेलवे के अधिकारियों के साथ बैठक में शामिल थे।

ये मुद्दा ससंद में भी उठा। लोकसभा चर्चा के दौरान कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों ने सरकार पर आरोप लगाया कि आम बजट में रेलवे में सार्वजनिक-निजी साझेदारी (पीपीपी), निगमीकरण और विनिवेश पर जोर देने की आड़ में इसे निजीकरण के रास्ते पर ले जाया जा रहा है।

विपक्ष ने सरकार को घेरते हुए कहा कि सरकार को बड़े वादे करने की बजाय रेलवे की वित्तीय स्थिति सुधारना चाहिए तथा सुविधा, सुरक्षा एवं सामाजिक जवाबदेही का निर्वहन सुनिश्चित करना चाहिए। 

सत्तारूढ़ भाजपा ने विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि रेलवे रोजाना नये प्रतिमान और कीर्तिमान गढ़ रहा है तथा पिछले पांच वर्षो में साफ-सफाई, सुगमता, सुविधाएं, समय की बचत और सुरक्षा आदि हर क्षेत्र में सुधार हुआ है। अब सरकार का जोर रेलवे में वित्तीय अनुशासन लाने पर है। 

रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी ने गुरुवार को कहा कि राजग सरकार से पहले रेलवे में केवल राजनीतिक बजट पेश किया जाता था जिसके कारण विकास कार्य ठीक ढंग से नहीं हो पाता था। हमारी सरकार ने रेलवे को विकास के साधन के रूप में आगे बढ़ाया है।

लोकसभा में वर्ष 2019..20 के लिये रेल मंत्रालय के नियंत्रणाधीन अनुदानों की मांगों पर चर्चा में हस्तक्षेप करते हुए रेल राज्य मंत्री ने कहा कि 2009 से 2014 तक संप्रग सरकार के दस वर्षों के शासनकाल में पूंजी व्यय 2.30 लाख करोड़ रुपये था, जबकि 2014 से 2019 तक मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में यह दोगुने से अधिक बढ़कर 4.97 लाख करोड़ रुपये हो गया।

उन्होंने कहा कि हमने रेल यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने, रेलवे की क्षमता को उन्नत करने, पूर्वोत्तर को रेल संपर्क से जोड़ने, आकांक्षी जिलों में रेल संपर्क बढ़ाने और यात्रियों की बेहतर तरीके से सुरक्षा आदि पर ध्यान दिया है।

अंगड़ी ने कहा कि रेल यात्रा के दौरान महिला सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उनके लिए अलग डिब्बों का प्रबंधन करना तथा रेलवे स्टेशनों पर साफ-सफाई के साथ वाई-फाई जैसी सुविधाओं से लैस करने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं।

रेल राज्य मंत्री ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में रेल लाइनों का दोहरीकरण सबसे अधिक हुआ है। रेल मार्गों के विद्युतीकरण में भी आठ गुना वृद्धि दर्ज की गयी है। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक कोचों के उत्पादन में वृद्धि हुई है।

अंगड़ी ने कहा कि रेल एक परिवार की तरह है जहां 13 लाख से ज्यादा कर्मचारी रेलवे की बेहतरी के लिए काम कर रहे हैं। पहले भी ये ही लोग काम कर रहे थे लेकिन सोच और दृष्टिकोण नहीं होता था। प्रधानमंत्री मोदी ने रेलवे को विजन दिया।

उन्होंने रेलगाड़ियों के सामान्य या अनारक्षित डिब्बों में यात्रियों को होने वाली परेशानियों पर चिंता जताते हुए कहा कि उन्होंने अधिकारियों को इस दिशा में काम करने का निर्देश दिया है।

अंगड़ी ने ट्रेनों की रफ्तार का जिक्र करते हुए कहा कि जापान, चीन जैसे देशों में 400 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से ट्रेनें चलती हैं लेकिन हमारी देश में क्यों नहीं चल सकीं। इसके लिए उन्होंने पहले की सरकारों का जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि अब प्रधानमंत्री मोदी बुलेट ट्रेन लेकर आ रहे हैं।

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :