SUNSTAR TV

भाजपा सरकार ने शुरू की ईमानदारी से नौकरी देने की संस्कृति: राव नरबीर बच्चे देश का भविष्य, इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी: उपायुक्त चरखी दादरी की विनेश फौगाट ने किया टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई, अब गोल्ड पर निशाना शिरोमणि अकाली दल ने हरियाणा में ठोकी चुनावी ताल, 22 सितंबर को होगी उम्मीदवारों की स्क्रिनिंग दुलर्भ डाक टिकटों की प्रदर्शनी देखने उमड़ी भीड़ नामांकन पत्र में प्रत्याशी द्वारा सही, सच व पूरी जानकारी होनी चाहिए: एसडीएम टोक्यो ओलंपिक क्वालीफाई करने पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दी विनेश को बधाई, कहा, खेल रहा हरियाणा खिल रहा हरियाणा शाबास करनाल पुलिस: पुलिस ने चोरों के बड़े नेटवर्क को तोड़ा, 9 चोर गिरफ्तार, 40 चोरियों का हुआ खुलासा मनोहर सरकार ने पूरे किए युवाओं के सपने: एमएलए जसबीर देशवाल विधानसभा चुनाव को लेकर प्रशासन ने कसी कमर, तैयारियां हुई पूरी मृदा हेल्थ कार्ड से किसान फ्री में करवा सकते हैं मिट्टी और पानी की जांच झज्जर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ के बाद तीन बदमाश ​गिरफ्तार नगरीय निकाय चुनाव प्रक्रिया की लाटरी निकाली गई, रायपुर समेत 5 निगमों में आरक्षण लागू नहीं विपक्षी दलो को ढूंढने पर भी नही मिल रहे उम्मीदवार डा कमल गुप्ता महाजनसम्पर्क अभियान के तहत भाजपा की विकासात्मक नीतियों को किया साझा यमुनानगर के सरकारी अस्पताल में नीकू वार्ड शुरू, कम वजन वाले न्यू बोर्न बच्चों को मिलेगी फ्री सुविधाएं कांग्रेस में हुड्डा-शैलजा की जोड़ी सिर्फ दिखावटी, ये एक दुसरे को करेंगे प्रयास दिग्विजय चौटाला अनुशासनहीनता के चलते उमेद लोहान जेजेपी से निष्कासित दुर्गा शक्ति एप: हरियाणा पुलिस को एक और सम्मान बीएसपी मुखिया मायावती का कांग्रेस पर हमला जारी

RBI ने लगाया करोडों का जुर्माना SBI व PNB समेत नौ सरकारी बैंकों पर

देश के सबसे बड़े सार्वजनिक कर्जदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) पर 50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। आरबीआइ ने पाया है कि धोखाधड़ी से संबंधित जानकारियां

Duleshwari Sahu 04-08-2019 12:25:39



नई दिल्ली।  भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने नौ सरकारी बैंकों पर 50 लाख रुपये से लेकर दो करोड़ रुपये तक का जुर्माना लगाया है। संबंधित बैंकों द्वारा शेयर बाजारों को दी गई जानकारियों के मुताबिक इलाहाबाद बैंक और बैंक और महाराष्ट्र पर दो करोड़ रुपये प्रत्येक, बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) बैंक ऑफ इंडिया (बीओआइ), इंडियन ओवरसीज बैंक (आइओबी) तथा यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर डेढ़ करोड़ रुपये प्रत्येक तथा ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (ओबीसी) पर एक करोड़ रुपये जुर्माना लगाया गया है। इन बैंकों पर दिए गए कर्ज की मॉनिटरिंग में ढुलमुल रवैया अपनाने समेत नियामक संबंधी कई पहलुओं की अनदेखी के आरोप सही साबित हुए।

देश के सबसे बड़े सार्वजनिक कर्जदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) पर 50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। आरबीआइ ने पाया है कि धोखाधड़ी से संबंधित जानकारियां उस तक पहुंचाने में बैंक ने देरी की। शेयर बाजारों को दी जानकारी में एसबीआइ ने कहा कि बैंकिंग नियामक ने बैंकिंग रेगुलेशंस एक्ट की धाराओं का उपयोग करते हुए उस पर यह जुर्माना लगाया है। सार्वजनिक क्षेत्र के कर्जदाता पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) पर भी आरबीआइ ने 50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। शेयर बाजारों को दी जानकारी में बैंक ने कहा कि किंगफिशर एयरलाइंस को दिए कर्ज के मामले में धोखाधड़ी से संबंधित जानकारियां आरबीआइ को देने में उसने देरी की।

 सरकारी क्षेत्र के कर्जदाता कॉरपोरेशन बैंक का शुद्ध लाभ 100 करोड़ रुपये को पार कर गया है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून, 2019) में बैंक ने 22 फीसद उछाल के साथ 103.28 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया। पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में बैंक को 84.96 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ था। वहीं, बीते समीक्षाधीन अवधि से ठीक पिछली तिमाही (जनवरी-मार्च, 2019) में बैंक को 6,581.49 करोड़ रुपये का घाटा उठाना पड़ा था। बीते वित्त वर्ष में बैंक का कुल घाटा 6,332.98 करोड़ रुपये रहा था।

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कॉरपोरेशन बैंक की कुल आय घटकर 4,417.88 करोड़ रुपये रही, जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 4,977.92 करोड़ रुपये थी। हालांकि संपत्ति की गुणवत्ता के मोर्चे पर कई अन्य बैंकों की तरह कॉरपोरेशन बैंक में भी सुधार दिख रहा है। समीक्षाधीन अवधि में बैंक का सकल फंसा कर्ज (एनपीए) घटकर 15.44 फीसद रह गया। पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में यह 17.44 फीसद था। बैंक का नेट एनपीए भी पहली तिमाही में 11.46 फीसद से घटकर 5.69 फीसद रह गया। समीक्षाधीन अवधि में एनपीए और आकस्मिक मदों को मिलाकर बैंक ने 715.98 करोड़ रुपये का प्रावधान किया। पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में इस मद में बैंक को 1,508.43 करोड़ रुपये का प्रावधान करना पड़ा था।

गौरतलब है कि एनपीए के जंजाल में फंस जाने की वजह से ही आरबीआइ ने कॉरपोरेशन बैंक को प्रांप्ट करेक्टिव एक्शन (पीसीए) के दायरे में रखा हुआ था। वित्तीय स्थिति सुधरने के बाद इस वर्ष फरवरी में बैंक को इस बंधन से मुक्त कर दिया गया। पीसीए के दायरे में आए बैंकों पर कई तरह की पाबंदियां लग जाती हैं। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :