SUNSTAR TV

भाजपा सरकार ने शुरू की ईमानदारी से नौकरी देने की संस्कृति: राव नरबीर बच्चे देश का भविष्य, इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी: उपायुक्त चरखी दादरी की विनेश फौगाट ने किया टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई, अब गोल्ड पर निशाना शिरोमणि अकाली दल ने हरियाणा में ठोकी चुनावी ताल, 22 सितंबर को होगी उम्मीदवारों की स्क्रिनिंग दुलर्भ डाक टिकटों की प्रदर्शनी देखने उमड़ी भीड़ नामांकन पत्र में प्रत्याशी द्वारा सही, सच व पूरी जानकारी होनी चाहिए: एसडीएम टोक्यो ओलंपिक क्वालीफाई करने पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दी विनेश को बधाई, कहा, खेल रहा हरियाणा खिल रहा हरियाणा शाबास करनाल पुलिस: पुलिस ने चोरों के बड़े नेटवर्क को तोड़ा, 9 चोर गिरफ्तार, 40 चोरियों का हुआ खुलासा मनोहर सरकार ने पूरे किए युवाओं के सपने: एमएलए जसबीर देशवाल विधानसभा चुनाव को लेकर प्रशासन ने कसी कमर, तैयारियां हुई पूरी मृदा हेल्थ कार्ड से किसान फ्री में करवा सकते हैं मिट्टी और पानी की जांच झज्जर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ के बाद तीन बदमाश ​गिरफ्तार नगरीय निकाय चुनाव प्रक्रिया की लाटरी निकाली गई, रायपुर समेत 5 निगमों में आरक्षण लागू नहीं विपक्षी दलो को ढूंढने पर भी नही मिल रहे उम्मीदवार डा कमल गुप्ता महाजनसम्पर्क अभियान के तहत भाजपा की विकासात्मक नीतियों को किया साझा यमुनानगर के सरकारी अस्पताल में नीकू वार्ड शुरू, कम वजन वाले न्यू बोर्न बच्चों को मिलेगी फ्री सुविधाएं कांग्रेस में हुड्डा-शैलजा की जोड़ी सिर्फ दिखावटी, ये एक दुसरे को करेंगे प्रयास दिग्विजय चौटाला अनुशासनहीनता के चलते उमेद लोहान जेजेपी से निष्कासित दुर्गा शक्ति एप: हरियाणा पुलिस को एक और सम्मान बीएसपी मुखिया मायावती का कांग्रेस पर हमला जारी

बंगाल शिफ्ट होगा कानपुर का चमड़ा उद्योग

Monika Wagh 21-07-2019 14:02:45



कानपुर। कानपुर की पहचान बन चुके चमड़ा उद्योग का अब यहां से मोहभंग होने लगा है। लगातार बंदी और घटते कारोबार से परेशान उद्यमी दूसरे प्रदेशों में भविष्य तलाश रहे हैं। यहां के 18 उद्यमियों ने बंगाल सरकार के साथ 700 करोड़ रुपये से अधिक के निवेश का करार किया है। प्रदेश में कानपुर और आगरा चमड़ा उत्पादों के हब हैं।

सूबे से होने वाले कुल निर्यात का 12.47 फीसद केवल चमड़ा उत्पाद ही हैं। कानपुर में डेढ़ लाख से अधिक लोग प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से इस कारोबार से जुड़े हैं, लेकिन पिछले वर्ष नवंबर से टेनरियों की बंदी से उद्यमी टूटने लगे हैं। ऐसे में जब बंगाल सरकार ने उद्यमियों को सस्ती जमीन और बेहतर सुविधाओं का वादा किया तो 18 उद्यमियों ने वहां निवेश करार कर लिया। चमड़ा उद्योग के विशेषज्ञ जफर फिरोज बताते हैं कि 18 में से छह को उद्यमियों को जमीन भी दो दिन पहले आवंटित कर दी गई है। हालांकि इसे कानपुर से पलायन नहीं कहा जाएगा, लेकिन बेहतर सुविधाएं होतीं तो यह निवेश यहां भी हो सकता था।

कतार में अभी 22 और उद्यमी

बंगाल में निवेशक उद्यमी असद इराकी ने कहा कि कानपुर तो घर है, लेकिन यहां उद्योग ही बंद है। काम का माहौल नहीं है, सो बंगाल जाना पड़ रहा है। कानपुर से कुल 40 उद्यमियों ने आवेदन किया था। बाकी का भी जल्द करार होने की उम्मीद है।

जितना कमाया नहीं, उतना तो गंवाया

बीते साल मुख्यमंत्री ने जो इन्वेस्टर्स समिट बुलाई थी, उसमें जिले में 1,841 करोड़ रुपये के निवेश करार हुए थे। इसमें अभी 500 करोड़ का निवेश भी धरातल पर नहीं उतरा है, जबकि केवल चमड़ा सेक्टर में ही करीब 700 करोड़ रुपये का निवेश कानपुर से चला गया।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :