SUNSTAR TV

भाजपा सरकार ने शुरू की ईमानदारी से नौकरी देने की संस्कृति: राव नरबीर बच्चे देश का भविष्य, इनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी: उपायुक्त चरखी दादरी की विनेश फौगाट ने किया टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई, अब गोल्ड पर निशाना शिरोमणि अकाली दल ने हरियाणा में ठोकी चुनावी ताल, 22 सितंबर को होगी उम्मीदवारों की स्क्रिनिंग दुलर्भ डाक टिकटों की प्रदर्शनी देखने उमड़ी भीड़ नामांकन पत्र में प्रत्याशी द्वारा सही, सच व पूरी जानकारी होनी चाहिए: एसडीएम टोक्यो ओलंपिक क्वालीफाई करने पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दी विनेश को बधाई, कहा, खेल रहा हरियाणा खिल रहा हरियाणा शाबास करनाल पुलिस: पुलिस ने चोरों के बड़े नेटवर्क को तोड़ा, 9 चोर गिरफ्तार, 40 चोरियों का हुआ खुलासा मनोहर सरकार ने पूरे किए युवाओं के सपने: एमएलए जसबीर देशवाल विधानसभा चुनाव को लेकर प्रशासन ने कसी कमर, तैयारियां हुई पूरी मृदा हेल्थ कार्ड से किसान फ्री में करवा सकते हैं मिट्टी और पानी की जांच झज्जर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ के बाद तीन बदमाश ​गिरफ्तार नगरीय निकाय चुनाव प्रक्रिया की लाटरी निकाली गई, रायपुर समेत 5 निगमों में आरक्षण लागू नहीं विपक्षी दलो को ढूंढने पर भी नही मिल रहे उम्मीदवार डा कमल गुप्ता महाजनसम्पर्क अभियान के तहत भाजपा की विकासात्मक नीतियों को किया साझा यमुनानगर के सरकारी अस्पताल में नीकू वार्ड शुरू, कम वजन वाले न्यू बोर्न बच्चों को मिलेगी फ्री सुविधाएं कांग्रेस में हुड्डा-शैलजा की जोड़ी सिर्फ दिखावटी, ये एक दुसरे को करेंगे प्रयास दिग्विजय चौटाला अनुशासनहीनता के चलते उमेद लोहान जेजेपी से निष्कासित दुर्गा शक्ति एप: हरियाणा पुलिस को एक और सम्मान बीएसपी मुखिया मायावती का कांग्रेस पर हमला जारी

श्रम सुधारों की दिशा में बढ़ते कदम, वेतन संहिता विधेयक को मिल सकती है मंत्रिमंडल की हरी झंडी

Bhojesh Sahu 23-06-2019 14:25:36



नयी दिल्ली। श्रम सुधारों की दिशा में कदम बढ़ाते हुए श्रम मंत्रालय अगले सप्ताह वेतन संहिता विधेयक के मसौदे को मंजूरी के लिए मंत्रिमंडल के समक्ष रख सकता है. एक सूत्र ने कहा कि मंत्रालय संसद के मौजूदा सत्र में इस विधेयक को पारित कराना चाहता है. पिछले महीने 16वीं लोकसभा का कार्यकाल समाप्त होने के बाद यह विधेयक निरस्त हो गया था.मंत्रालय को अब विधेयक को संसद के किसी भी सदन में नये सिरे से पेश करने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल की अनुमति की जरूरत होगी. सूत्र ने कहा, मंत्रिमंडल वेतन संहिता विधेयक पर अगले महीने मंजूरी दे सकता है. श्रम मंत्रालय इस विधेयक को संसद के मौजूदा सत्र में ही पारित कराना चाहता है.

इससे पहले विधेयक को 10 अगस्त, 2017 को लोकसभा में पेश किया गया था. इसे 21 अगस्त, 2017 को संसद की स्थायी समिति के पास भेजा गया था. समिति ने अपनी रिपोर्ट 18 दिसंबर, 2018 को सौंपी थी. वेतन संहिता विधेयक सरकार की ओर से परिकल्पित चार संहिताओं में से एक है. ये चार संहिताएं पुराने 44 श्रम कानूनों की जगह लेंगी.

यह निवेशकों की सहूलियत और आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए निवेश को आकर्षित करने में मदद करेंगी. ये चार संहिताएं हैं : वेतन, सामाजिक सुरक्षा, औद्योगिक सुरक्षा एवं कल्याण और औद्योगिक संबंध. वेतन संहिता विधेयक, मजदूरी भुगतान अधिनियम 1936, न्यूनतम मजदूरी कानून 1948 , बोनस भुगतान कानून 1965 और समान पारिश्रमिक अधिनियम 1976 की जगह लेगा.

विधेयक में प्रावधान किया गया है कि केंद्र सरकार रेलवे और खनन समेत कुछ क्षेत्रों के लिए न्यूनतम मजदूरी तय करेगी, जबकि राज्य अन्य श्रेणी के रोजगारों के लिए न्यूनतम मजदूरी निर्धारित करने के लिए स्वतंत्र होंगे. विधेयक के मसौदे में कहा गया है कि न्यूनतम मजदूरी में हर पांच साल में संशोधन किया जायेगा.

इस महीने की शुरुआत में, गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में हुई अंतर-मंत्रालयी बैठक के बाद श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने कहा था कि उनका मंत्रालय संसद के चालू सत्र में इस विधेयक को पारित कराने का प्रयास करेगा. इस बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण तथा वाणिज्य और रेल मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :