SUNSTAR TV

प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन पर किसानों को दिलाई जल संचय और आर्गेनिक खेती की शपथ भाजपा के प्रतिनिधि मंडल दंतेवाड़ा उपचुनाव में गंभीर आरोपो को लेकर पहुंचे निर्वाचन आयोग पीजीआई में मरीजों से मिलकर मंत्री ने मनाया पीएम मोदी का जन्मदिन उत्तराखंड के सबसे बड़े घोटालों में से एक छात्रवृत्ति घोटाले में गीता राम नौटियाल की गिरफ़्तारी से रोक हटी हरदोई की घटना पर कांग्रेस ने PM से किया सवाल, कहा- युवक को जिंदा जलाने पर चुप क्‍यों हैं आप? सिद्धार्थनगर: पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय को मिला मकान खाली करने का नोटिस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेशों में भी भारतियों को दी राजनीतिक ताकत : जेपी नड्डा गवर्नर अनुसुइया उइके ने गृहमंत्री अमित शाह से की मुलाकात, मिली ये बड़ी जिम्मेदारी बिना ‘हेलमेट’ UP रोडवेज की बस चला रहा था ड्राइवर, कटा चालान! हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की तबीयत खराब, IGMC शिमला में भर्ती किए गए अयोध्या मामले में बड़ा अपडेट 17 नवम्बर से पहले राम मंदिर बाबरी मस्जिद केस में आ सकता है फैसला मतदाता सूची शिविर की समय-सीमा बढ़ाने विधायक विकास उपाध्याय ने सौंपा ज्ञापन अनिल विज ने कुमारी शैलजा को बताया 'गद्दार', तो हुड्डा को दी 'पलटू राम' की संज्ञा C. R. पार्क में लड़कियो को देख मास्टरबेट करता था लड़का, अब 11 दिन बाद पुलिस ने पकड़ा हरियाणा सरकार ने ठहराया कंप्यूटर शिक्षकों के आंदोलन को अवैधानिक एयरपोर्ट से हिसार में स्थापित होंगे विकास के नए आयाम: डा. कमल गुप्ता मैं भी अपनी छाती पर लगाउंगा अपने दादा और पिता को फौज में मिले मैडल : राव इंद्रजीत सिंह मनोहर सरकार ने 1962 के भारत-पाक युद्ध तक के शहीदों के आश्रितों को दी नौकरी : राव इंद्रजीत शुरुआती कारोबार में आई गिरावट सांची दूध फिर होगा महंगा, दाम बढ़ाने का भेजा प्रस्ताव

मुटियाई का 1 आम खरीदने के लिए होने चाहिए इतने हजार रुपए

Monika Wagh 23-06-2019 16:55:38



इंदौर। एक आम की कीमत तुम क्या जानो!, क्या आपने कभी 1200 रुपये में केवल एक आम खरीदा है? जी हां, आम की एक खास किस्म के केवल एक फल की कीमत इस बार 1200 रुपये तक जा पहुंची है। 'आमों की मलिका' के रूप में मशहूर किस्म 'नूरजहां' के फलों का औसत वजन इस बार मौसम की मेहरबानी से बढ़कर 2.75 किलोग्राम पर पहुंच गया है। यही वजह है कि आम की इस दुर्लभ किस्म के मुरीद इसके केवल एक फल के लिये 1,200 रुपये तक चुका रहे हैं। 

केवल मध्य प्रदेश में हैं गिने-चुने पेड़

अफगानिस्तानी मूल की मानी जाने वाली आम प्रजाति नूरजहां के गिने-चुने पेड़ मध्यप्रदेश के अलीराजपुर जिले के कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में ही पाये जाते हैं। यह इलाका गुजरात से सटा है। 

इंदौर से करीब 250 किलोमीटर दूर कट्ठीवाड़ा में इस प्रजाति की खेती के विशेषज्ञ इशाक मंसूरी ने रविवार को बताया कि इस बार अनुकूल मौसमी हालात के चलते नूरजहां के पेड़ों पर खूब बौर (आम के फूल) आये और फसल भी अच्छी हुई। उन्होंने बताया कि मौजूदा सत्र में नूरजहां के फलों का वजन औसतन 2.75 किलोग्राम के आस-पास रहा, जबकि गुजरे तीन सालों में इनका औसत वजन तकरीबन 2.5 किलोग्राम रहा था। 

पिछले साल इल्लियों ने बर्बाद कर दी थी फसल

मंसूरी ने बताया कि पिछले साल इल्लियों के भीषण प्रकोप के चलते नूरजहां की फसल लगभग बर्बाद हो जाने से इसके मुरीदों को मायूस रहना पड़ा था। बहरहाल, इस बार अच्छी फसल के चलते जहां नूरजहां के स्वाद के शौकीन खुश हैं, वहीं इसके विक्रेताओं की भी पौ बारह हो गयी है।

एडवांस में हो चुकी है बुकिंग

मंसूरी ने बताया कि इन दिनों नूरजहां का केवल एक फल 700 से 800 रुपये में बिक रहा है। ज्यादा वजन वाले फल के लिये 1,200 रुपये तक भी चुकाये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि पड़ोसी गुजरात के अहमदाबाद, वापी, नवसारी और बड़ौदा के कुछ शौकीनों ने नूरजहां के फलों की सीमित संख्या के कारण इनकी अग्रिम बुकिंग तब ही करा ली, जब ये फल छोटे थे और डाल पर लटककर पक रहे थे। 

आम के साथ सेल्फी खिंचवाने भी आते हैं लोग 

मंसूरी ने बताया कि कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में कई लोगों को आमों के बाग में नूरजहां के भारी-भरकम फलों से लदे पेड़ के साथ फोटो और सेल्फी खींचते भी देखा जा सकता है। नूरजहां के पेड़ों पर जनवरी से बौर आने शुरू होते हैं और इसके फल जून के आखिर तक पककर तैयार होते हैं। नूरजहां के फल तकरीबन एक फुट तक लम्बे हो सकते हैं। इनकी गुठली का वजन 150 से 200 ग्राम के बीच होता है। 

पहले के मुकाबले घटा है वजन

बहरहाल, यह बात चौंकाने वाली है कि किसी जमाने में नूरजहां के फल का औसत वजन 3.5 से 3.75 किलोग्राम के बीच होता था। जानकारों के मुताबिक, पिछले एक दशक के दौरान मॉनसूनी बारिश में देरी, अल्पवर्षा, अतिवर्षा और आबो-हवा के अन्य उतार-चढ़ावों के कारण नूरजहां के फलों का वजन पहले के मुकाबले घट गया है। जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के कारण आम की इस दुर्लभ किस्म के वजूद पर संकट भी मंडरा रहा है। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :